पुरी, जागरण संवाददाता

ओड़िशा हाईकोर्ट के निर्देश अनुसार श्रीमंदिर के सिंहद्वार मुखशाला के दक्षिण पा‌र्श्व और मेघनाद दीवार से सटे छाउणी मठ का जबरदखल निर्माण कार्य हटा दिया गया है। हाईकोर्ट के निर्देश अनुसार शुक्रवार अपराह्नं के समय राष्ट्रीय पुरातत्व सर्वेक्षण संस्थान तथा जिला प्रशासन के प्रयास से छाउणी मठ के जबरदखल 6 डेसीमिल जमीन में किए गए निर्माण कार्य को हटा दिया गया है। इस अवसर पर उपजिलाधीश उधव चरण माझी और पौर संस्थान के निर्वाही अधिकारी विश्वजीत दास उपस्थित थे। बड़छता मठ से छाउणी मठ तक पुलिस फोर्स तैनात किया गया था। घटना स्थल पर स्काभेटर रखा गया था, लेकिन प्रशासन ने मजदूर के जरिए यह उच्छेद कार्य संपादित किया है। उच्छेद कार्य में मठ की तरफ से किसी प्रकार का विरोध नहीं किया गया है। इस विवादित जमीन में हुए निर्माण को हटाने के समय काफी लोग उपस्थित थे। मठ महन्त रघुवीर दास भी उपस्थित रहकर हाईकोर्ट के निर्देश अनुसार प्रशासन का सहयोग किए। दो-तीन दिन में यह उच्छेद कार्य सम्पन्न हो जाने की बात एएसआई की तरफ से कहा गया है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस