पुरी, जागरण संवाददाता

राष्ट्रीय संस्कृत संस्थान श्री सदाशिव परिसर के नये अध्यक्ष के रूप में प्रो. डा. फकीर मोहन पण्डा ने कार्यभार संभाल लिया है। श्री पण्डा इससे पहले संस्थान के पुराण विभाग के प्रोफेसर के रूप में दायित्व निर्वहन कर रहे थे। पूर्व अध्यक्ष डा.जी.गंगाना, राजस्थान के जयपुर संस्कृत परिसर के अध्यक्ष के रूप में अवस्थापित हुए हैं। नूतन अध्यक्ष श्री पण्डा को परिसर के अध्यापक, कर्मचारी तथा छात्र-छात्राओं की तरफ से स्वागत किया गया है। इस उद्देश्य में परिषद के सम्मेलन कक्ष में एक संब‌र्द्धना उत्सव सम्पन्न हुआ है। शिक्षा शास्त्र विभाग के वरिष्ठ प्राध्यापक डा.रमाकान्त मिश्र के अध्यक्षता में सम्पन्न इस संब‌र्द्धना उत्सव में धर्मशास्त्र विभाग के मुख्य प्रोफेसर डा.अतुल कुमार नंद ने स्वागत अभिभाषण दिया। इस उत्सव में परिसर के प्रो.सुदेश कुमार शर्मा, डा.सुकान्त कुमार सेनापति, प्रो.खगेश्वर मिश्र, प्रो.ललित कुमार साहू, प्राध्यापक नृसिंह चरण साहू, प्रो.प्रभात कुमार महापात्र, प्रो.सोमया जुलू, पूर्णचन्द्र महापात्र, दुर्गा दाश महापात्र, सावित्री शतपथी और केतकी महापात्र प्रमुख अभिभाषण देते हुए डा.पण्डा के छात्र वत्सलता के ऊपर गुरुत्व दिए। इस अवसर पर श्री पण्डा ने कहा कि पहले से वह सदाशिव परिसर के ही छात्र थे। बाद में योग्यता के अनुसार अध्यक्ष बने हैं। संस्कृत संस्थान के विभिन्न उल्लेखनीय कार्य में वह शामिल हुए हैं। श्री पण्डा ने कहा कि संस्कृत भाषा और अपने को प्रतिष्ठित करने के लिए छात्र-छात्राओं को शिक्षानुष्ठान में संस्कृत भाषा में बात करनी चाहिए। इस उत्सव में संस्थान के सभी कर्मचारी, अध्यापक, नूतन अध्यक्ष को पुष्प प्रदान पूर्वक स्वागत किया गया।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस