पुरी, जागरण संवाददाता

श्रीक्षेत्र के वरिष्ठ नागरिक संब‌र्द्धना मंच और सुलेखा साहित्य संस्कृति परिषद की तरफ से अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पालन किए जाने के साथ उत्कल नारी प्रतिभा सम्ब‌र्द्धना समारोह सम्पन्न हो गया है। जिलाधीश के सम्मेलन कक्ष में सम्पन्न इस समारोह के पहले अधिवेशन में 'आज के समाज में नारी' शीर्षक एक आलोचनाचक्र सम्पन्न हुआ। इस अवसर पर राज्य स्तरीय कुछ प्रमुख नारी प्रतिभाओं को सम्मानित किया गया। समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में विशिष्ट समाजसेवी तथा औपन्यासिका कुन्तला कुमारी आचार्य। रूक्मणी देवि, प्रतिमा मिश्र, सुप्रिता पटनायक सम्मानित अतिथि के रूप में योगदान किए थे। सदाशिव मिश्र समारोह में अध्यक्षता किए थे। अनाम चन्द्र साहू और सुलेखा के कार्यकर्ता श्रीमती स्नेहलता मिश्र अपने अनुष्ठान के बारे में सूचना किए। अभ्यर्थना कमेटी के अध्यक्षा अन्नपूर्णा देवी ने स्वागत भाषण देने के समय अतिथि परिचय शिवसुन्दर मिश्र ने दिया। मुख्य अतिथि श्रीमती आचार्य ने उद्बोधन देते हुए कहा कि अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर सभी क्षेत्र में महिलाओं को अपनी कुशलता दिखानी चाहिए। महिलाओं के शिक्षा औंर स्वास्थ्य के विकाश को उनको आत्मनिर्भरशील बनाना चाहिए। इस अवसर पर सुलेखा के 32 साल प्रथम संख्या और नुआपड़ा के सुभाषिनी होता के 4 पुस्तक संकलन का लोकार्पण किया गया। डा.कैलाश चन्द्र टिकायत राय ने स्वादहीन जीवन पुस्तक को उन्मोचित किए थे। इस अवसर पर साहित्य संस्कृति परिषद की तरफ से विशेष सम्मान में सम्मानित हुए थे सुप्रीता पटनायक, श्रीमती मनोरमा दास और श्रीमती माधुरी अधिकारी। अपराह्नं में कविता पाठ उत्सव, बसंत मिलन अनुष्ठित हुआ था।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस