जागरण संवाददाता, पुरी : 29 जून को होने वाली विश्व प्रसिद्ध रथयात्रा के लिए आयोजित दूसरी समन्वय समिति की बैठक तर्क-वितर्क तथा हो-हल्ले के बीच संपन्न हो गई। सद्भावना सभा कक्ष में आयोजित बैठक में की अध्यक्षता पंचायतीराज व कानून मंत्री अरुण कुमार साहू ने की।

बैठक में विभिन्न विभागों के मंत्री, वरिष्ठ अधिकारी व सेवायत प्रतिनिधि उपस्थित थे। बैठक में घोष यात्रा के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले विभिन्न विभागों के कार्य को लेकर तर्क वितर्क हुआ। विशेष रूप से स्वास्थ्य विभाग तथा पुरी में हो रही ड्रेनेज सिस्टम के काम को लेकर असंतोष प्रकट किया गया। बैठक में कहा गया कि जगन्नाथ वन प्रकल्प में पेड़ों की संख्या घटती जा रही है। इससे आगामी रथयात्रा के लिए लकड़ी नहींमिलेगी। इस पर नयागढ़ डीएफओ ने बताया कि असन, धउरा व महानीम्ब आदि पौधे लगाए गए हैं और उसमें से 80 प्रतिशत अभी जीवित हैं। बैठक में कहा गया कि श्रीमंदिर के अंदर महाप्रभु की नीति संपादन में देरी होती है। इसकी समीक्षा की जरूरत है। इस बात को लेकर सेवायतों ने काफी हो-हल्ला मचाया। बिजली समस्या को लेकर मीडिया के प्रतिनिधि ने मंत्री का ध्यान आकर्षित किया। कानून मंत्री ने अच्छे अधिकारियों को लेकर बिजली व्यवस्था ठीक करने का आश्वासन दिया। परिमल व्यवस्था पर हुई चर्चा के समय नगरपाल जयंत कुमार षडंगी ने आश्वासन दिया कि आगामी 25 जून तक शहर के सभी नालों व कुओं की सफाई हो जाएगी। बड़दांड और शहर के विभिन्न मुहल्लों के रास्ते में ड्रेनेज विभाग की स्थिति ठीक नहींहै। नालों का पानी रास्तों पर बह रहा है, जिसका जिम्मेदार ड्रेनेज विभाग है। मंत्री साहू ने ड्रेनेज विभाग को स्नान पूर्णिमा के दिन समीक्षा करने के लिए निर्देश दिया। बैठक में नगर विकास मंत्री पुष्पेंद्र सिंहदेव, स्वास्थ्य मंत्री अतनु सव्यसाची नायक, आपूर्ति मंत्री संजय दासवर्मा, मंत्री रमेश माझी, पर्यटन मंत्री अशोक पण्डा, विधायक महेश्वर महांती, आरडीसी सुरेश कुमार वशिष्ठ, विशेष डीजी संजीव मारिक, केंद्रांचल आईजी आरपी कोचे., खुफिया विभाग के अतिरिक्त डीजी सुनील कुमार राय, श्रीमंदिर मुख्य प्रशासक डॉ. अरविन्द कुमार पाढ़ी, जिलाधीश धीरेन पटनायक, एसपी अनूप साहू, नगरपाल जयंत कुमार षडंगी, श्रीमंदिर के प्रमुख सेवायत तलुच्छ नीलकण्ठ महापात्र व रामचन्द्र दास महापात्र उपस्थित थे।