जागरण संवाददाता, पुरी

समुद्र के किनारे स्थित एक होटल के कमरे से मां-बेटा व बेटी का शव बरामद होने के बाद पुलिस ने छानबीन तेज कर दी है। हालांकि अपने पूरे परिवार का सफाया करने वाला हत्यारा अभी तक पकड़ में नहीं आया है। पुलिस ने हत्यारे अमित अग्रवाल को गिरफ्तार करने के लिए लुक आउट सर्कुलर जारी कर दिया है।

इधर, सोमवार को अमित के पिता माधव प्रसाद अग्रवाल परिवार के सदस्य पुरी पहुंचे। सभी होटल अनन्या में ठहरे हुए हैं। अमित की मृत पत्नी अंकिता बंसल के भाई अभिषेक अग्रवाल और भाभी श्रद्धा अग्रवाल होटल जमींदार पैलेस में रुककर पुलिस को जांच में सहयोग कर रहे हैं। गला दबाने के कारण तीनों की मौत होने की बात पोस्टमार्टम रिपोर्ट से जानने में आई है। कोठरी से पुलिस ने नींद की गोली वाला एक बोतल बरामद किया है। अमित की पत्नि अंकिता, बेटी बाणी एवं बेटा दिव्यांशु के गले में रस्सी लगाकर हत्या करने का संदेह किया जा रहा है। अमित का घर उत्तर प्रदेश के मथुरा जिला अन्तर्गत लुई बाजार में है। अमित शादी के बाद अपने पत्नि और बच्चों के साथ लखनऊ में रहता था। उसके मकान में एक सोने की दुकान है। अमित के पिता माधव प्रसाद के बयान के अनुसार अमित को व्यवसाय में काफी नुकसान हुआ था, इससे उसके दीमाग की हालत ठीक नहीं थी। पिछले अगस्त 18 तारीख से बीबी बच्चों को साथ लेकर घर से निकला था। अमित की एक इनोवा गाड़ी दो महीने पहले गंगा किनारे से पुलिस जब्त की थी। उसके बाद अमित के बारे में उसके परिवार को कुछ भी जानकारी नहीं थी। होटल जमीदार पैलेस के कमरे से पुलिस को दो पत्र मिला है। दोनों पत्र में एक ही प्रकार की लिखावट है। एक पत्र में लिखा गया है कि व्यवसाय में नुकसान के कारण मैं आत्महत्या कर रहा हूं। दूसरे पत्र में लिखा गया है कि अमित के मरने के बाद हम तीनों आत्महत्या कर रहे हैं। दो पत्र में लिखावट एक ही व्यक्ति की है। अमित पिछली 9 तारीख को जमीदार पैलेस के 307 नंबर कमरे में ठहरा हुआ था। वह अपने बीबी बच्चों के साथ काफी खुश था। उसके बारे में होटल वालों को किसी प्रकार का संदेह नहीं हुआ। अमित के पिता माधव प्रसाद के बयान के अनुसार अमित लखनऊ में रहता था और दोनों परिवार में किसी प्रकार विवाद नहीं था। पुलिस अमित के परिवार और पत्नि अंकिता के भाई अभिषेक तथा भाभी से पूछताछ करके काफी जानकारी हासिल की है। 4 महीने तक अमित कहां कहां गया था, इस सम्बन्ध में पुलिस पता कर रही है। अमित पकड़े जाने के बाद सभी तथ्य सामने आ जाएगा। पुलिस अंकिता और बेटे-बेटी के शव का पोस्टमार्टम के बाद शव हस्तांतर कर दिया है, जिनका स्वर्गद्वार में अंतिम संस्कार किया गया है। अंकिता दो महीने से गर्भवती थी। अमित किस कारण अपने बीबी-बच्चों की हत्या की है, इस संबन्ध में दोनों परिवार अनजान हैं। पुलिस छानबीन कर रही है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर