जागरण संवाददाता, पुरी

ओडिशा लोकदल दल ने रथयात्रा के दौरान भक्तों को रथ नहीं छूने देने संबंधी जगतगुरू शंकराचार्य के निर्णय का विरोध किया है। लोकदल ने उनसे अपने निर्णय पर पुन: विचार करने का अनुरोध किया है।

ओडिशा लोकदल के अध्यक्ष दीप्ति रंजन महान्ति के नेतृत्व में सोमवार को पुरी में सिंहद्वार के सामने जगतगुरू के निर्णय के खिलाफ प्रदर्शन किया गया। इस दौरान महान्ति ने कहा कि प्रभु जगन्नाथ, बहन सुभद्रा व अग्रज बलभद्र के रथारूढ़ होने के समय भक्तों को स्पर्श करने से रोकना उनकी भावना से खिलवाड़ और भगवान को अपमानित करना है। उन्होंने कहा कि भक्तों को दर्शन देने के लिए ही प्रभु जगन्नाथ श्रीमंदिर से निकलकर बाहर आते हैं। उनका स्पर्श करने पर लगाए गए प्रतिबंध को स्वीकार नहीं किया जा सकता।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर