संसू, ब्रजराजनगर : लखनपुर ब्लॉक को संबलपुर जिले के रेंगाली ब्लॉक से जोड़नेवाले राज्य के दूसरे सबसे लंबे पुल का मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने लोकार्पण कर क्षेत्रवासियों के दशकों पुराने सपने को तो साकार कर दिया, पर अजय मेहेर की मृत मां के पास समय पर पहुंचने की हसरत अधूरी रह गई।

दरअसल, रविवार को इस पुल का लोकार्पण करने शहर पहुंचे मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के लिए व्यापक सुरक्षा प्रबंध किए गए थे। पुल के इस ओर तिलिया ब्लॉक किनारे पर भारी जनसमूह के बीच दो बच्चों के साथ क्रदंन करता एक व्यक्ति देखा गया। पूछताछ करने पर उसने बताया कि उसका नाम अजय मेहेर है। वह मूलरूप से बरगढ़ जिले तलीपाड़ा का निवासी है तथा फिलहाल संबलपुर जिले के ¨सदूरपंक में रहता है। इलाके के शादी समारोह एवं अन्य आयोजनों में नृत्य कीर्तन करके वह अपने परिवार का भरण पोषण करता है। एक शादी में नृत्य करने के लिए वह तिलिया आया था और उसे रविवार को सूचना मिली कि उसकी मां का में देहांत हो गया है। आनन-फानन में वह अपने दोनों बच्चों के साथ मां के अंतिम संस्कार के लिए इस पार पहुंचा ताकि पुल के उस ओर जाकर बस से संबलपुर जा सके। लेकिन मुख्यमंत्री की गश्त के कारण उसे रोक दिया गया और वह दस बजे से इस पुल पर खड़ा है। एक तरफ मां का शव पड़ा था एवं दूसरी तरफ कड़ी धूप में चार घंटे इंतजार करने के बाद मुख्मयंत्री के जाने के उपरांत दोपहर दो बजे के बाद अजय अपने गंतव्य के लिए निकल सका। मौके पर मौजूद लोगों ने उसे सांत्वना देते हुए आर्थिक मदद भी की।

Posted By: Jagran