संसू, झारसुगुड़ा : झारसुगुड़ा जिला ग्रामीण विकास विभाग के कार्यपालक अभियंता मनोरंजन पटनायक के अपहरण का पर्दाफाश करते हुए झारसुगुड़ा थाना पुलिस ने दो भाइयों सहित आठ को गिरफ्तार किया है। शनिवार की शाम झारसुगुड़ा एसपी राहुल पीआर ने जिला पुलिस मुख्यालय में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि मुख्य आरोपित विभाग के चपरासी के दो पुत्र हैं। पिता के अपमान का बदला लेने को घटना को अंजाम दिया था। छह अक्टूबर को देर रात करीब साढ़े बारह बजे कार्यपालक अभियंता का उनके सरकारी आवास पर से अपहरण कर लिया गया था। आरोपित जबरन घर में घुसे और हथियार दिखाकर पैसे की मांग की। पटनायक ने चार हजार रुपये दिए लेकिन आरोपितों ने अधिक पैसा की मांग की। नहीं मिलने से सोना की चेन छीन ली। एटीएम और चेक बुक देने को कहा। बंदूक दिखाकर चेक पर तीन लाख रुपये भरकर साइन करा लिए। इसके बाद बोलेरो में जबरन बिठा कर अपने साथ ले गए। आरोपित उनसे किसी ठेकेदार या अधिकारी से तीन लाख रुपये मंगवाने का दबाव डाल रहे थे। इसके बाद पटनायक ने विभाग में कार्यरत ठेकेदार श्रीनिवाश प्रधान से तीन लाख रुपये मांगे। इसके बाद भी उन्हें अपने साथ संबलपुर से होते हुए कालाहंडी ले गए। दोपहर तक पैसा नहीं मिलने पर डर से केसिगा के पास एक सुनसान स्थान पर उन्हें छोड़ कर फरार हो गए। एसपी ने बताया कि टिटलागड़ के सीताघाट के मूल निवासी तथा झारसुगुड़ा के आरडब्ल्यू कालोनी में रहने वाला आरोपित शिव ताडी (26) व तोफान तांडी(20) के पिता रवि तांडी जिला ग्रामीण विकास विभाग में चतुर्थवर्गीय कर्मचारी हैं। रवि तांडी बिना किसी को बताए लगातार आफिस से गायब रहता था। इसके लिए पटनायक ने उन्हें चेतावनी दी थी। इसी का बदला लेने के लिए रवि के दोनों पुत्र शिव व तोफान टिटलागड के पंकज बाग, ललित तांडी, बुलु मनहीरा, मुरीबहाल के प्रकाश महाकुड, निरजंन आचार्य के साथ मिल कर अपहरण की घटना को अंजाम दिया था। पुलिस ने उनके पास से चेन, बोलेरो, एक बंदूक, दो भुजाली और तलवार जब्त की है। संवाददाता समेलन मे डी एस पी एन.दडंसेना, एसडीपीओ कैलाश आर्चाय व टाउन थानधिकारी साबित्री बल उपस्थित थे।

Edited By: Jagran