झारसुगुडा़, जेएनएन। कोयला खदानों और शिल्प समृद्ध झारसुगुडा़ जिला में तमाम कवायदों के बावजूद आपराधिक घटनाएं कम नहीं हो रही हैं। जिले में हत्या, बलात्कार की घटनाएं लगातार सामने आ रही हैं। खदान अंचल मे वर्चस्व की जंग के कारण अक्सर खूनी खेल खेला जाता है। इसे रोकना पुलिस के लिए सिरदर्द बना हुआ है। 

पुलिस लाख प्रयासों के बावजूद जिले में बढ़ती अपराध की बेल को छांट नहीं पा रही है। इसके पीछे मुख्य कारण जिला पुलिस में बड़ी संख्या में रिक्त पड़े पद हैं। पुलिसकर्मियों की कमी का फायदा उठाकर अपराधी घूम-घूमकर घटनाओं को अंजाम देकर फरार हो जाते हैं। यही वजह है कि अकेले झारसुगुडा़ थाना में ही एक साल में एक हजार से अधिक मामले दर्ज होते हैं।

वैसे झारसुगुड़ा जिला में दो पुलिस सबडिवीजन हैं, झारसुगुडा़ व ब्रजराजनगर। इसमें झारसुगुडा़ पुलिस

सबडिवीजन में झारसुगुडा़, बडमाल, कोलाबीरा व लैयकरा चार थाने आते हैं। जबकि ब्रजराजनगर सबडिवीजन में ब्रजराजनगर, ओरिएंट, बेलपहाड़, बनहरपाली, रेंगाली व लखनपुर कुल छह थाना हैं। इसके अलावा जिले में एक विद्युत थाना भी है। 

जिला पुलिस कार्यालय के आंकड़ों के अनुसार, झारसुगुडा़ थाना मे 8 एसआइ की जगह 4, सात एएसआइ की जगह 5 एवं एक कांस्टेबल व 4 ओएसएपीएफ का रिक्त है। बड़माल थाना में 4 एसआइ, 2 एएसआइ व 7 कांस्टेबल, कोलाबीरा मे 4 एसआइ, 2 एएसआइ व 2 ओएसएपीएफ एवं लैयकरा थाना मे 4 एसआई के पद रिक्त हैं। 

इसी तरह ब्रजराजनगर सब डिविजन के ब्रजराजनगर थाना में 1 एसआइ, 3 एएसआइ, 6 ओएसएपीएफ, ओरियंट में 2 एएसआइ, बेलपहाड़ मे 4 एएसआइ, 2 कांस्टेबल व 3 ओएसएपीएफ, बनरहलपाली मे 1 एसआइ, एक एएसआइ व 5 ओएसएपीएफ, लखनपुर में 3 एएसआई व एक ओएसएपीएफ एवं रेंगाली थाना मे 1 एएसआइ व 3 ओएसएपीएफ पद रिक्त है। काबिलेगौर बात यह है कि जिले एक मात्र विद्युत ना का कोई माइ बाप नहीं है। यहां एक इंस्पेक्टर, 2 एसआइ, 2 एएसआइ व 1 हवलदार के पद सबके सब खाली हैं। 

इस संबंध में आला अधिकारी को पत्र लिख कर रिक्त पड़े पदों पर नियुक्त करने का अनुरोध किया है। जिससे जल्द ही पुलिस के रिक्त पदों पर नियुक्त होगी। 

 अश्विनी कुमार महांती, पुलिस अधीक्षक, झारसुगुड़ा

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Babita kashyap

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप