संवाद सूत्र, झारसुगुड़ा : गुणपुर-राउरकेला राज्यरानी एक्सप्रेस ट्रेन के एसी बोगी में नाबालिग बच्ची के साथ अटेंडर नाबालिग द्वारा दु‌र्व्यवहार किए जाने का मामला सामने आया है। जैसे ही ट्रेन झारसुगुड़ा स्टेशन पहुंची उक्त घटना को लेकर विवाद शुरू हो गया। इसकी सूचना पाकर शहर के कुछ लोग भी स्टेशन पहुंचे और मामले को लेकर टीटीई पर हमला कर घायल कर दिया। लोगों ने बच्ची के साथ दु‌र्व्यवहार करने वाले अटेंडर की भी पिटाई कर दी। टीटी व अटेंडर की पिटाई के मामलें मे झारसुगुड़ा जीआरपी ने दो लोगों को गिरफ्तार किया था जिन्हें बाद में थाना से ही जमानत पर रिहा कर दिया गया। जीआरपी ने आरोपित नाबालिग अटेंडर को बाल सुधार गृह भेज दिया है।

गुणपुर-राउरकेला राज्यरानी ट्रेन में बरहमपुर से झारसुगुड़ा के लिए एक परिवार एसी-3, कोच नंबर- ए-1 में सफर कर रहा था। इस परिवार में तीन बच्चों में से एक 11 वर्षीय बच्ची भी थी। रास्ते में जिस सीट पर नाबालिग बैठे थी। उसी सीट पर एसी बोगी का नाबालिग अटेंडर आकर बैठ कर उसके साथ दु‌र्व्यवहार करने लगा। यह देख परिजनों ने अटेंडर को वहां से उठने को कहा लेकिन वह किसी की बात सुनने को तैयार नही था और ट्रेन में ही विवाद शुरू हो गया। परिजनों ने टीटीई रुकमण नायक को घटना की शिकायत कर अटेंडर को वहां से हटाने की बात कहीं। लेकिन टीटीई ने इस पर ध्यान ही नही दिया। इस पर परिजनों ने घटना की जानकारी झारसुगुड़ा में रहने वाले अपने परिवरवालों को दी। यात्री के परिजन ट्रेन आने के पहले ही स्टेशन पहुंच गए। जैसे ही ट्रेन झारसुगुड़ा स्टेशन पहुंची तो वहां पहले से मौजूद यात्री के परिजनों ने टीटीई पर हमला कर घायल कर दिया। प्लेटफार्म में झगड़ा होता देख जीआरपी के जवान मौके पर पहुंच मारपीट करने वाले दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया। हालांकि कुछ समय बाद दोनों को थाने से ही जमानत पर रिहा कर दिया गया। वहंी बच्ची के साथ दु‌र्व्यवहार करने वाले नाबालिग अटेंडर को पोस्को एक्ट के तहत मामला दर्ज कर बाल सुधार गृह भेजा गया है। आरोपित नाबालिग अटेंडर झारखंड के जमशेदपुर की निजी संस्था खगुवाल लोकों लेबर के अधीन काम करता है। कैसे एक नाबालिग ट्रेन में अटेंडर के रूप में नियुक्त किया गया, यह जांच का विषय है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस