संवाद सूत्र, राजगांगपुर : सावन महीने की तीसरी सोमवारी को प्रसिद्ध घोघड़ धाम में जलाभिषेक करने के लिए बड़ी संख्या में भक्तों की संख्या जुटी है। इस धाम में जलाभिषेक करने के लिए ओडिशा के विभिन्न जिलों समेत पड़ोसी राज्य छत्तीसगढ़ व झारखंड से भी भक्तों की टोली पहुंची थी। एक अनुमान के मुताबिक यहां करीब 50 हजार से भी ज्यादा भक्तों ने आकर घोघड़ेश्वर महादेव का जलाभिषेक किया और अपनी मनोकामना पूरी करने के लिए प्रार्थना की।

घोघड़ेश्वर महादेव का जलाभिषेक करने के लिए रविवार की सुबह से वेदव्यास त्रिवेणी संगम में कांवरियों के जत्थों का आना शुरू हो गया था। इन जत्थों में झारखंड के सिमडेगा, गुमला, पालकोट, बसिया, कोलेबिरा, छत्तीसगढ़ के रायगढ़, चांपा, जांजगीर, कोरबा, जशपुर, पत्थलगांव ,बागबहार आदि स्थानों से आए कांवरियां शामिल थे। इसके अलावा सुंदरगढ़ जिले के राउरकेला समेत लाठीकटा, बणई, बीरमित्रपुर, बंडामुंडा, नुआगांव, राजगांगपुर, कांसबाहाल, कुतरा, बड़गांव समेत पड़ोसी जिले झारसुगुड़ा के साथ संबलपुर जिले से भी भक्तों की टोली पहुंची। रविवार की सुबह से यहां पहुंचे कांवरियों की टोली ने हनुमान वाटिका, इंदिरा गांधी पार्क, वैष्णो देवी मंदिर आदि स्थानों पर घूमने के बाद शाम ढलने के साथ वेदव्यास त्रिवेणी संगम पहुंचे। यहां से पवित्र जल लेने के बाद कांवरियों का जत्था कांवर लेकर घोघड़ धाम के लिए रवाना हुआ। यहां पर रात के दो बजे मंदिर के पट खुलने के बाद कांवरियों समेत अन्य भक्तों ने बारी-बारी से बाबा का जलाभिषेक किया। यहां भक्तों की भीड़ को देखते हुए घोघड़ धाम ट्रस्ट के ट्रस्टी घोघड़मल गड़ोदिया तथा थाना प्रभारी प्रताप कुमार जेना की ओर से पुख्ता प्रबंध किया गया था।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस