कटक, जागरण संवाददाता। ओडिशा उच्च न्यायालय ने बुधवार को केंद्रीय मंत्री सह भाजपा नेता विशेश्वर टुडू को मारपीट के मामले में अग्रिम जमानत दे दी है। हाई कोर्ट ने टुडू को चार मार्च को जांच अधिकारी के सामने पेश होने, जांच में सहयोग करने और मामले में गवाहों को प्रभावित नहीं करने का निर्देश दिया है। मामले में अगली सुनवाई आठ मार्च को होगी। केंद्रीय जलशक्ति व आदिवासी व्यापार राज्य मंत्री विशेश्वर टुडू पर आरोप है कि उन्होंने 21 जनवरी को बारीपदा में भाजपा कार्यालय में ओडिशा सरकार के दो अधिकारियों की पिटाई कर दी थी। पीड़ितों को चोट आई और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। टुडू के खिलाफ मयूरभंज के जिला योजना बोर्ड के उप निदेशक अश्विनी मलिक और सहायक निदेशक देबाशीष महापात्र ने मारपीट का आरोप लगाया है।

जानें, क्या है मामला

अधिकारियों के अनुसार, उन्हें मंत्री ने समीक्षा बैठक के लिए लक्ष्मीपोसी के पास स्थित पार्टी कार्यालय में बुलाया। दोनों अधिकारियों के वहां पहुंचने के बाद मंत्री ने अपने सहयोगियों से शटर बंद करवाकर उन्हें प्लास्टिक की कुर्सी से पीटा। हालांकि, मंत्री ने आरोपों का खंडन करते हुए कहा है कि यह पंचायत चुनाव से पहले उनकी छवि खराब करने का प्रयास है। मंत्री के अनुसार, दोनों अधिकारी समीक्षा बैठक के लिए आए थे। वह व्यस्त होने के कारण दोनों अधिकारियों से मिल नहीं सके थे। इस मामले में ओएएस एसोसिएशन ने मंत्री के खिलाफ बारीपदा टाउन थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई थी।

इसलिए गुस्से में आए मंत्री

अधिकारियों ने कहा कि चुनाव आचार संहिता लागू होने के कारण हम फाइल लेकर बाहर नहीं जा सकते। इस कारण दफ्तर में ही समीक्षा की जाए। इस बात को लेकर मंत्री विश्वेश्वर टुडू गुस्से में आ गए। इसके बाद इन दोनों अधिकारियों को दिल्ली कार्यालय से फोन आया कि फाइल लेकर नहीं, बल्कि ऐसे ही जाकर मंत्री से मिल लें, मंत्री कुछ जानना चाहते हैं। इसके बाद दोनों अधिकारी मंत्री से मिलने पार्टी कार्यालय पहुंचे। यहां अधिकारियों के पहुंचते ही मंत्री ने गाली-गलौज शुरू कर दी। कहा, तुम्हें प्रोटोकाल पता नहीं है। मंत्री से पहले मैं क्या था, तुम्हें पता नहीं है क्या -ऐसा कहते हुए मंत्री लोहे की राड और कुर्सी से अधिकारियों की पिटाई की। असिस्टेंट डायरेक्टर देवाशीष महापात्र ने कहा कि पार्टी कार्यालय में मंत्री ने शटर बंद कर हमारी पिटाई की है। जिस कुर्सी से हमारी पिटाई की है, वह कुर्सी टूट गई है। मेरा हाथ टूट गया है। दोनों बारीपदा मेडिकल कालेज व अस्पताल में भर्ती हैं।

मंत्री ने कहा, मुझे बदनाम करने की साजिश

केंद्रीय राज्य मंत्री बिशेश्वर टुडू ने खुद पर लगे आरोपों का खंडन किया है। मंत्री ने कहा कि यह मुझे बदनाम करने की साजिश है। आगे पंचायत चुनाव है। ऐसे में मुझे बदनाम करने की यह विरोधी दलों की साजिश है। समीक्षा बैठक के लिए अधिकारी आए थे, मगर मैं व्यस्त था। ऐसे में मीटिंग करने से मना कर दिया।

Edited By: Sachin Kumar Mishra

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट