संवादसूत्र, कटक : छात्राओं के साथ बदसलूकी करना एवं अनुशासनहीनता के आरोप में रेवेंशा विश्वविद्यालय से निलंबित होने वाले चार छात्रों को परीक्षा में शामिल करने की मांग करते हुए छात्रों ने शुक्रवार को विवि के मुख्य द्वार पर ताला जड़कर धरना-प्रदर्शन किया। छात्रों ने कुलपति प्रो. इशान पात्र को ज्ञापन सौंपकर निलंबित छात्रों की सजा कम कर परीक्षा फार्म भरने की अनुमति देने का आग्रह किया है। तालाबंदी की सूचना मिलने पर मालगोदाम थाना पुलिस एवं एसीपी त्रिनाथ मिश्र मौके पर पहुंचकर आंदोलन कर रहे छात्रों को समझाकर गेट खुलवा दिया। इसके बाद विवि की जीएस कैस कमेटी की अध्यक्ष स्मृति प्रभा दास, एसीपी त्रिनाथ मिश्र, प्रदीप्त महापात्र, पदम जेना, असीमा साहू आदि ने बैठक कर छात्रों की मांग पर विचार-विमर्श किया। सोमवार को छात्रों की मांग पर फैसला लिए जाने का आश्वासन मिलने के बाद छात्रों ने अपना धरना समाप्त किया।

उल्लेखनीय है कि छात्राओं के साथ बदसलूकी करने के आरोप में पूर्व कुलपति प्रो. प्रकाश चन्द्र षाड़ंगी ने इनफार्मेशन एंड टेक्नोलॉजी मैनेजमेंट (आइटीएम) द्वितीय वर्ष के चार छात्रों को निलंबित कर दिया था। आरोपी छात्रों में से एक को दो सेमेस्टर परीक्षा एवं तीन छात्रों को एक सेमेस्टर परीक्षा देने पर रोक लगा दी थी।

Posted By: Jagran