कटक, जेएनएन। देशभर में ऑनलाइन के जरिए ठगी करने वाले दो विदेशी नागरिकों को ओडिशा क्राइमब्रांच पुलिस ने दबोच लिया है। आरोपितों में एरी क्लेम (46) नाइजेरिया व जोजो आलेक्स (34), पश्चिमी अफ्रीकी देश कोटा डिबेरी का निवासी बताया गया है। दोनों दिल्ली के तिलक नगर थाना स्थित महावीर नगर लेन नंबर-4 डी-1/ टीएफ में रहते थे, जहां से गिरफ्तार किया गया है।

दोनों को ओडिशा क्राइमब्रांच पुलिस रविवार रात को कटक ले आई। इन दोनों को दिल्ली के सीएमएम कोर्ट में पेश करने के बाद पांच दिनों की ट्रांजिट रिमांड पर ओडिशा लाकर सोमवार से पूछताछ शुरू की गई है। क्राइमब्रांच द्वारा गठित एक विशेष टीम इनसे पूछताछ कर रही है। आरोपितों के पास से पांच मोबाइल फोन, दो लैपटॉप, दो सिमकार्ड, दो पासपोर्ट एवं कुछ कागजात भी क्राइमब्रांच ने जब्त किए हैं। दोनों आरोपित अन्य कुछ लोगों के साथ मिलकर देशभर में ऑनलाइन के जरिए लाखों रुपये का चूना लोगों का लगा रहे थे। कभी फेसबुक के जरिए प्रेम विवाह का भरोसा देकर ठगी करते थे तो कभी कारोबार के नाम पर लोगों को चूना लगाते थे।

दिल्ली, मुंबई, कोलकाता पुलिस को यह गैंग चकमा दे रहा था। इन्हें पकड़ने के लिए दिल्ली पुलिस 2012 से लगी थी। जनवरी 2018 में जोजो आलेक्स ने फेसबुक में एक नकली खाता खोला था, जिसमें वह खुद को अमेरिका का डॉक्टर बताया। भुवनेश्वर की ममता विश्वाल के साथ संपर्क साधने के बाद सोशल मीडिया के जरिए संबंध बनाया। ममता से फायदा लेने के लिए जोजो ने उसे शादी का प्रस्ताव दिया। जोजो की इस ठगी योजना में ममता फंस गई और वह ममता से 10 लाख रुपये ठगकर फरार हो गया था।

निराश ममता ने पहले कमिश्नरेट पुलिस एवं बाद में कटक के साइबर थाना में मामला दर्ज कराया था। विगत 13 फरवरी को साइबर थाना में यह मामला दर्ज होने के बाद क्राइमब्रांच के आइजी अरुण बोथरा ने इस गिरोह को पकड़ने के लिए टीम बनायी थी। इंस्पेक्टर अनिल आनंद की अगुवाई में उक्त टीम ने घटना की जांच-पड़ताल शुरू की। चार महीने की कड़ी मशक्कत के बाद क्राइमब्रांच को यह सफलता मिली है। 11 दिनों तक दिल्ली में डेरा जमाने के बाद ओडिशा क्राइमब्रांच की टीम इन दोनों ठगों को दबोचने में कामयाब हुई।