संसू, कटक : बालेश्वर में कांग्रेस के लिए कुछ वर्ष पहले एक ऐसा समय आया जब पार्टी से जुड़े नेता व कार्यकर्ता हाथ का साथ छोड़कर अन्य दलों का दामन थामने लगे थे। ऐसा लग रहा था मानों यह पार्टी जिले में अलग-थलग पड़ जाएगी। ऐसे में जिले के युवा नेता विक्रम पंडा सामने आए और पार्टी से पलायन को रोकने के साथ जनसमस्याओं को जिला प्रशासन और सरकार तक पहुंचाना शुरू किया। दैनिक जागरण से बातचीत में विक्रम ने बताया कि नवीन सरकार के सामने मैं बौना सा दिख रहा था, लेकिन दूरदृष्टि, कड़ी मेहनत के चलते आज मैं आम जनता की समस्याओं को लेकर सड़क पर उतरकर सरकार के साथ संग्राम कर रहा हूं। पार्टी हित के लिए एक वफादार सिपाही के तौर पर मैं कार्य कर रहा हूं। उल्लेखनीय है कि विगत चुनाव हारने के बाद ऐसे कई लोग पार्टी के खिलाफ चुनाव लड़कर विगत चार साल से फरार थे, लेकिन फिर से सफेद कुर्ता पैजामा पहनकर राजनीति में सक्रिय हो गए हैं।

Posted By: Jagran