संवाद सूत्र, कटक

केंद्र में भाजपा सरकार के चार साल पूरा होने के अवसर पर राज्य की व्यापारिक नगरी कटक के बालीयात्रा मैदान में शनिवार को आयोजित जनसभा के जरिए भारतीय जनता पार्टी ने एक तरफ जहां केंद्र सरकार की चार साल की उपलब्धियों को देश के सामने रखा तो वहीं दूसरी तरफ ओडिशा में 2019 में होने वाले आम चुनाव के लिए प्लेटफार्म भी तैयार किया। सभा में भाजपा नेताओं ने वर्ष 2019 में राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव में नवीन पटनायक सरकार को उखाड़ फेंकने का आह्वान किया। प्रधानमंत्री के आगमन से पूर्व सभा को संबोधित करते हुए राज्य भाजपा के नेताओं ने एक तरफ जहां केंद्र सरकार की विभिन्न योजनाओं को रखा तो वहीं दूसरी तरफ राज्य की नवीन पटनायक सरकार पर जमकर हल्ला बोला। खासकर महिला सुरक्षा, भ्रष्टाचार, बदतर स्वास्थ्य सेवा, कानून व्यवस्था हर क्षेत्र में राज्य सरकार को विफल बताया।

प्रधानमंत्री की जनसभा में राज्य के कोने कोने से लोग पहुंचे। सभा में उमड़ी लोगों की भीड़ को देख भाजपा नेताओं के चेहरे गदगद दिखे। प्रधानमंत्री की जनसभा को सफल बनाने के लिए खुद केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेद्र प्रधान पिछले एक सप्ताह से जी जान से जुटे रहे। प्रधानमंत्री के दौरे के चलते भुवनेश्वर एयरपोर्ट से लेकर कटक रोड एवं कटक शहर तथा बालीयात्रा मैदान के चारों तरफ सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे। सभा स्थल में पहुंचने वाले कार्यकर्ताओं की तलाशी लेकर सभा स्थल में छोड़ा जा रहा था। दोपहर 12 बजे से ही लोगों का हुजूम सभा स्थल पर पहुंच गया।

राज्य के कोने कोने से बस,कार, ट्रेन और मोटरसाइकिल से लाखों लोग सभा स्थल पहुंचे। कोई भाजपा का झंडा लिया हुआ था तो कोई मोदी के मुखौटे लगाकर सभा स्थल पर पहुंचा। इस दौरान नृत्य गीत करते लोगों में उत्साह देखने को मिला। लोगों के मुताबिक अपने इलाके के लोगों के साथ मोदी के जनसभा में शामिल होने के लिए शुक्रवार रात से ही यहां पहुंच गए थे। सभा में पुरुषों के साथ काफी संख्या में महिलाएं भी दिखी। सुरक्षा घेरे में रहा बालीयात्रा मैदान

बालीयात्रा मैदान पुरी तरह से सुरक्षा घेरे में था। कमिश्नरेट पुलिस की तरफ से 71 प्लाटून पुलिस बल शहर के विभिन्न जगहों पर तैनात रही। तीन आइपीएस अधिकारियों के साथ कई वरिष्ठ आला अधिकारी शहर के मुख्य जगहों पर तैनात नजर आए। ट्रैफिक व्यवस्था को दुरुस्त किया गया। बालीयात्रा मैदान को जोड़ने वाले तमाम रास्तों को शील कर रखा था। केवल लोगों को पैदल जाने की इजाजत थी।

Posted By: Jagran