जागरण संवाददाता, भुवनेश्वर : विश्व में चीन सर्वाधिक अंडा उत्पादन करने वाला देश है। उसके बाद दूसरा स्थान भारत का है। अंडा उत्पादन में ओडिशा देश में 11वें स्थान पर है। लेकिन प्रदेश में 2014-15 में दैनिक 52 लाख अंडे का उत्पादन हो रहा था जो कि अब दैनिक 65 लाख तक पहुंच गया है। इसके बावजूद राज्य में रोजाना जितने अंडे की जरूरत है उसके लिए दूसरे राज्यों पर निर्भर होना पड़ रहा है। राज्य में रोजाना 85 लाख अंडे की जरूरत है। बाकी 20 लाख अंडे के लिए प्रदेश को पड़ोसी राज्य आंध्र प्रदेश पर निर्भर रहना पड़ रहा है। इस स्थिति पर हम गंभीरता से विचार कर रहे हैं और आगामी दिनों राज्य अपनी आवश्यकता को खुद पूरा करने में सक्षम होने की बात मछली व पशुपालन मंत्री अरुण साहू ने कही है। राज्य के कृषि एवं तकनीकी विश्वविद्यालय अंतर्गत वेटनरी महाविद्यालय में शुक्रवार को विश्व अंडा दिवस के मौके पर बतौर मुख्य अतिथि मंत्री साहू ने ये बातें कहीं।

मछली एवं पशुपालन विकास विभाग, आल ओडिशा पोल्टी फा‌र्म्स एसोसिएशन एवं आल ओडिशा लोयर फा‌र्म्स एसोसिएशन के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित इस कार्यक्रम में एसोसिएशन के मानस रंजन मंगराज ने सम्मानित अतिथि के तौर पर भाग लेते हुए कहा कि प्रदेश में अंडा उत्पादन एवं और अधिक मुर्गा फार्म खोलने की जरूरत है। मछली एवं पशुपालन विकास विभाग के कमिश्नर तथा सचिव आर रघु प्रसाद ने बताया कि राज्य में वर्तमान समय मे 138 व्यवसायिक लेयर मुर्गा फार्म है। आगामी दिनों में और 100 फार्म स्थापित किए जाएंगे। ओयूएटी के कुलपति डॉ. पवन कुमार अग्रवाल, पशु चिकित्सा निदेशक रत्नाकर राउत प्रमुख उपस्थित रहकर अपने अपने विचार रखे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप