जागरण संवाददाता, भुवनेश्वर : तीन दिवसीय ओडिशा दौरे पर आए पाटीदारों के नेता हाíदक पटेल अपना दौरा संपन्न कर सोमवार को गुजरात लौट गए। अपने दौरे में मयूरभंज जिले के बारीपदा में कुदुमी बिरादरी के आदिवासियों की सभा को संबोधित करते हुए पटेल ने कहा कि ओडिशा सरकार को कुदुमी जनजाति के लोगों के अधिकार को देना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि कुदुमी बिरादरी को आरक्षण सूची शामिल होने तक अधिकार के लिए हमारी लड़ाई जारी रहेगी। पटेल ने कहा कि कुदुमी, महंत, कुरमी, पटेल, ये सब पिछड़ी जाति से आते हैं। ओडिशा में यही कुदुमी आदिवासी कहलाने लगते हैं। इस जाति को आरक्षण की सूची लाए जाने की जरूरत है। गुजरात में पाटीदारों के लिए आरक्षण की लड़ाई लड़ने वाले हाíदक की सभा में लोगों की भीड़ जुटी थी। उन्होंने कहा कि वह मुख्यमंत्री नवीन पटनायक से मिलकर उनसे कहेंगे कि केंद्र सरकार से कुदुमी जनजाति को आरक्षण की श्रेणी में लाने के लिए पत्र लिखें। उन्होंने कहा कि इसके लिए राज्य सरकार के विरुद्ध आंदोलन छेड़ने में वह पीछे नहीं हटेंगे। जब पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पहले ही केंद्र को लिखा है कि कुदुमी को जनजाति का स्टेटस दिया जाए तो फिर पटनायक को कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए। कुदुमी नेताओं दावा है कि कुदुमी जनजाति की संख्या ओडिशा में 25 लाख है। ये मयूरभंज, सुंदरगढ़, केंदुझर, अनुगुल, देवगढ़ और संबलपुर में ज्यादा बताए जाते हैं। हाíदक की सभा में ओडिशा, असम, बिहार, झारखंड से भी कुदुमी बिरादरी के लोग आए थे।

---------

नहीं हो पाई मुख्यमंत्री से मुलाकात

ओडिशा दौरे पर आए पाटीदार नेता हार्दिक पटेल की मुख्यमंत्री नवीन पटनायक से मुलाकात नहीं हो पाई। मीडिया से बातचीत में हार्दिक ने कहा कि हम मयूरभंज जिले की कुछ समस्याओं को मुख्यमंत्री के सामने रखना चाह रहा थे, मगर उन्होंने मिलने का मौका नहीं दिया। कहा कि नवीन पटनायक 17 साल से सत्ता का सुख भोग रहे हैं, एक बार विपक्ष में बैठेंगे तो उन्हें राज्य में क्या स्थिति है, पता चल जाएगा।

Posted By: Jagran