भुवनेश्वर, जेएनएन। राजधानी भुवनेश्वर को प्रदूषण से बचाने के लिए बीएमसी की तरफ से शुक्रवार को अनूठी पहल शुरू की गई है। भुवनेश्वर म्युनिसिपल कारपोरेशन (बीएमसी) कमिश्नर ने अपने सभी कर्मचारी एवं अधिकारियों को प्रत्येक शुक्रवार को मोटर चालित वाहन लेकर दफ्तर न आने का निर्देश जारी किया जिसका अनुपालन करते हुए  आज तमाम अधिकारी व कर्मचारी साइकिल से अपने दफ्तर पहुंचे हैं। कुछ कर्मचारियों को पैदल चलकर भी दफ्तर पहुंचते देखा गया है। 

खबर के मुताबिक पर्यावरण प्रदूषण रोकने के लिए सप्ताह में प्रत्येक शुक्रवार को सभी कर्मचारी व अधिकारियों को साइकिल या फिर पैदल दफ्तर आने के लिए बीएमसी कमिश्नर ने निर्देश जारी किया हुआ है। ऐसे में भुवनेश्वर नगर निगम, भुवनेश्वर विकास प्राधिकरण (बीडीए) तथा भुवनेश्वर स्मार्टसिटी लिमिटेड की तरफ से अपने कर्मचारियोप्रदूषण  प्रत्येक शुक्रवार को साइकिल के जरिए दफ्तर आने के लिए निर्देश जारी किया गया है। शुक्रवार के दिन कोई मोटरचालित गाड़ी लेकर दफ्तर न आने के लिए सभी कर्मचारियों को निर्देश जारी किया गया है। कार्यालय में पार्किंग व्यवस्था को पूरी तरह से बंद कर दिया गया था। 

पर्यावरण रोकने के साथ भुवनेश्वर शहर को साफसुथरा रखने के लिए प्रशासन ने यह निर्णय लिया है। इसी के चलते कर्मचारी एवं अधिकारियों द्वारा प्रयोग की जाने वाली करीबन 1 हजार बाइक एवं 200 कार यानी 1200 मोटरचालित वाहन बंद रहे। सभी कर्मचारी व अधिकारी या तो साइकिल से दफ्तर पहुंचे हैं या फिर किराए पर वाहन का प्रयोग कर दफ्तर पहुंचे हैं। अधिकांश कर्मचारियों को साइकिल के जरिए अपने दफ्तर जाते देखा गया है, तो वहीं कुछ को पैदल चलकर भी दफ्तार जाते देखा गया है। बीएमसी कमिश्नर ने कहा है कि राजधानी भुवनेश्वर में पर्यावरण अभी दूषित तो नहीं हुआ है, मगर जिस प्रकार प्रदूषण बढ़ रहा है, वह खतरे का संकेत हैं। ऐसे में भुवनेश्वर का पर्यावरण दूषित हो इससे पहले यह कदम उठाया गया है।

श्री लिंगराज मंदिर का पुरी की तर्ज पर होगा विकास, प्रभावितों के लिए‍ विशेष पैकेज

 

Posted By: Babita kashyap

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस