जागरण संवाददाता, भुवनेश्वर : पिछड़े इलाके के तौर पर परिचित कालाहांडी जिले में विजिलेंस ने दो करोड़पति सरकारी बाबू तथा मयूरभंज जिले में एक करोड़पति क्लर्क के घर छापेमारी की। विजिलेंस ने केसिंगा ब्लाक के सहायक इंजीनियर बासुदेव महारणा तथा नर्ला ब्लाक के जलविभाजिका मिशन अधिकारी के ठिकानों पर मंगलवार को छापेमारी की। इस दौरान दोनों सरकारी बाबुओं के नाम करोड़ों की संपत्ति होने का पता चला है।

सूत्रों के अनुसार भवानीपटना विजिलेंस डीएसपी सत्यवान महानंद के नेतृत्व में 30 से अधिक सदस्यों की टीम ने छापेमारी में हिस्सा लिया। नर्ला ब्लाक के जलविभाजिका अधिकारी के पैतृक आवास, ईंट भट्ठा, अन्य कई ठिकानों व सरकारी कार्यालय में एक साथ छापेमारी की। छापेमारी में जो तथ्य सामने आया है उससे पितवास महाकुड़ की संपत्ति एक करोड़ से अधिक आंकी गई और यह मात्र प्राथमिक आकलन बताया जा रहा है। इसका वास्तविक मूल्य कहीं अधिक हो सकता है। इसी तरह केसिंगा ब्लाक के सहायक अभियंता बासुदेव महारणा के मदनपुररामर स्थित पैतृक आवास, कॉलेज रोड स्थित नूतन आवास, जुनागड़ स्थित ससुराल के¨सगा स्थित कार्यालय में छापेमारी की गई। महारणा के पास भी करोड़ों की संपत्ति होने का पता लगा है। उसी तरह विजिलेंस ने मयूरभंज जिले के बारीपदा स्थित एमपीसी स्वयंशासित कॉलेज के क्लर्क प्रभाकर परिडा के बैशिंगा स्थित आवास, बारीपदा कार्यालय में छापेमारी कर करोड़ों की संपत्ति का पता लगाया है। इस करोड़पति क्लर्क के पास से एक करोड़ 16 लाख रुपये से अधिक की संपत्ति जब्त की गई है।

Posted By: Jagran