भुवनेश्वर, जागरण संवाददाता। चक्रवात गुलाब (Cyclone Rose) के जाने के बाद बंगाल की खाड़ी में और एक कम दबाव का क्षेत्र बन रहा है। बंगाल की खाड़ी के पूर्वी मध्य बांग्लादेश-म्यामार इलाके में यह कम दबाव का क्षेत्र धीरे-धीरे सक्रिय हो रहा है। यह जानकारी आज भुवनेश्वर क्षेत्रीय मौसम विभाग की तरफ से दी गई है।

मौसम विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक कम दबाव का क्षेत्र सक्रिय हो जाने के बाद यह पश्चिम बंगाल तट होते हुए अतिक्रमण करेगा। इसके प्रभाव से राज्य तटीय इलाकों के साथ ही अंदरूनी इलाके में कुछ जगहों पर बारिश का दौर शुरू हो गया है जो कि 30 सितम्बर तक जारी रहेगा। इस दौरान कुछ जगहों पर आसमानी बिजली गिरने की भी सम्भावना है। खासकर 29 एवं 30 सितम्बर को मयूरभंज, केन्दुझर, सुन्दरगड़, देवगड़, बालेश्वर, भद्रक जिले में भारी बारिश होने की सम्भावना है।

वहीं दूसरी तरफ चक्रवात गुलाब कमजोर होकर ओडिशा की सीमा को पार कर छत्तीसगढ़ की सीमा की तरफ आगे बढ़ गया है गुलाब के प्रभाव से कोरापुट जिले में भारी बारिश हुई है। कोरापुट जिले के पटांगी इलाके में सर्वाधिक 148 मिमी. बारिश रिकार्ड की गई है। यहां उल्लेखनीय है कि चक्रवात गुलाब के कारण प्रदेश में जिस प्रकार से हवा चलने या बारिश होने का पूर्वानुमान लगाया गया था, उस तरह की स्थिति उत्पन्न नहीं हुई है। हालांकि कुछ जगहों पर हुई भारी बारिश के कारण नदियों का जल स्तर बढ़ा है। ऐसे में एक और कम दबाव का क्षेत्र सक्रिय होने और इसके प्रभाव से बारिश होने के बाद प्रदेश में बाढ़ का खतरा अभी भी बना हुई है।

Edited By: Babita Kashyap