भुवनेश्वर, जेएनएन। अरब सागर में पैदा हुए डिप्रेशन चक्रवात वायु का रूप धारण कर गुजरात की तरफ बढ़ रहा है। 13 जून तक गुजरात पहुंचने की संभावना है। ऐसे में गुजरात सरकार ने आपदा से निपटने में माहिर ओडिशा सरकार से तूफान वायु से निपटने के लिए सलाह मांगी है। तूफान के दौरान 140 से 165 किमी. प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलना की संभावना मौसम विभाग की तरफ से जतायी गई है।

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपानी ने कहा कि राज्य के अधिकारी आपदा प्रबंधन को लेकर ओडिशा सरकार के संपर्क में हैं। तूफान से निपटने के लिए किस प्रकार की व्यवस्था की जाए, जान-माल को कैसे सुरक्षित रखा जाए आदि को लेकर गुजरात सरकार ने ओडिशा सरकार से गुजरात सरकार ने परामर्श मांगी

है। गौरतलब है कि अक्सर चक्रवाती तूफान झेलने वाले ओडिशा की आपदा प्रबंधन तकनीक की तारीफ संयुक्त राष्ट्र तक होती रही है।

हाल ही में ओडिशा में आए फणि तूफान से निपटने के लिए सरकार द्वारा की गई व्यवस्था के चलते काफी मात्रा जान-माल को बचाया जा सका था। ऐसे में गुजरात के मुख्य सचिव जे एन सिंह ओडिशा के मुख्यमंत्री तथा मुख्यसचिव के साथ इसे लेकर चर्चा की है। आपातकालीन परिस्थिति में किस प्रकार के कदम उठाए जाएंगे सिंह ने ओडिशा सरकार से विस्तार से जानकारी ली है। यहां उल्लेखनीय है कि गुजरात को पोरबंदर और माहुआ तट में 13 जून को तड़के वायु चक्रवात 140 से 165 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चल सकती हैं। मौसम विभाग ने तटीय इलाकों में हाई अलर्ट जारी किया है। गृहमंत्री अमित शाह ने उच्चस्तरीय बैठक भी की है। 

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस