भुवनेश्वर, जागरण संवाददाता। ओडिशा के सबसे प्रमुख पर्व में से एक रज महोत्सव है। तीन दिनों तक चलने वाले इस में प्रत्येक घरों में रहने वाले बच्चों खासकर कुंवारी लड़कियों के लिए नए वस्त्र खरीदे जाते हैं। इसी बात को ध्यान में देखते हुए सरकार ने शुक्रवार एक दिन  के लिए बाजार को शाम 7 बजे के बदले रात 10 बजे तक खोलने की अनुमति देते हुए रात्रिकालीन कर्फ्यू की अवधि को भी घटा दिया था। 

 महामारी को किया नजर अंदाज 

 सरकार की तरफ से बार-बार लोगों से अनुरोध भी किया गया कि वे शारिरिक दुराव का अनुपालन करके बाजार से खरीददारी करें। बावजूद इसके कोरोना जैसी महामारी को नजर अंदाज कर राजधानी भुवनेश्वर के सबसे प्रमुख मार्केट यूनिट-2 मार्केट बिल्डिंग में लोगों का इस कदर हुजूम उमड़ा कि प्रशासन को मजबूरी में पूरी मार्केट को ही सील करना पड़ा है।

 जानकारी के मुताबिक मार्केट बिल्डिंग को एक दो दिन के लिए नहीं बल्कि पूरे एक सप्ताह के लिए सील कर दिया गया है। हजारों की संख्या में उमड़े लोगों का हुजूम देख प्रशासन भौचक्का रह गया और कोई उपाय ना देख पूरे मार्केट में ही ताला लगा दिया। मार्केट बिल्डिंग पहुंचे लोगों ने ना ही मास्क पहना था और ना ही शारिरिक दुराव का अनुपालन कर रहे थे।

बीएमसी को उठाना पड़ा ये कदम 

  ऐसे में बीएमसी ने उपरोक्त कदम उठाना पड़ा। हालांकि बीएमसी के इस कदम का मार्केट बिल्डिंग के व्यवसायियों ने विरोध किया। व्यवसायियों का कहना है कि पिछले लॉकडाउन में मार्केट पूरी तरह से बंद था। अब रज पर्व में अच्छा व्यवसाय होने की उम्मीद थी मगर प्रशासन ने अपने दायित्व से बचने के लिए यह निर्णय लिया है। भीड़ नियंत्रण करना एवं शारिरिक दुराव का अनुपाल करवाना प्रशासन का दायित्व है। प्रशासन अपना दायित्व निभाने के बदले मार्केट को सील कर रहा है, यह ठीक नहीं है। यहां उल्लेखनीय है कि राज्य के अन्य कई जिलों में भी आज कुछ मार्केट को इसी कारण से सील कर दिया गया है। भद्रक में भी अनेक दुकान व मॉल को प्रशासन ने सील कर दिया है।

Posted By: Babita kashyap

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस