जेएनएन, भुवनेश्वर : राजधानी भुवनेश्वर, कटक समेत पूरे राज्य में रक्षा बंधन का पर्व रविवार को बड़े ही धूमधाम के साथ मनाया गया। विभिन्न सामाजिक संगठन समेत एनसीसी कैडेटों ने सामूहिक रूप से भाई-बहन के इस महापर्व को विश्वास एवं उत्साह के साथ मनाया। बहनों ने जहां एक ओर भाइयों की कलाई पर राखी बांधकर आजीवन रक्षा का वचन लिया तो वहीं दूसरी ओर स्वयंसेवी संगठनों के साथ एनसीसी कैडेटों ने पेड़ों में रक्षा सूत्र बांधकर पौधों की सुरक्षा का संकल्प लिया।

हर साल की तरह इस साल भी स्कूली बच्चों ने राज्यपाल प्रो. गणेशी लाल एवं मुख्यमंत्री नवीन पटनायक को राखी बांधी। राजभवन में इसके लिए विशेष व्यवस्था की गई थी। विशेष रूप से दिव्यांग छात्राएं सुबह राजभवन पहुंची और हर्षोल्लास के साथ राज्यपाल की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधा। इन बच्चों से मिलकर राज्यपाल प्रो. गणेशी लाल भी गदगद दिखे।

वहीं, प्रजापित ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय के स्थानीय मुख्य सेवा केंद्र ओम निवास, यूनिट-9 समेत प्रेस्टिस रेसीडेंसी में सामूहिक रक्षाबंधन समारोह आयोजित किया गया। इसमें प्रकाश बेताला, वीरेन्द्र बेताला प्रमुख शामिल रहे।

इसी तरह कटक के कॉलेज चौक में मौजूद यशोदा सदन अनाथालय में रक्षा बंधन पर्व धूमधाम से बनाया गया। आश्रम में रह रहीं बहनों ने भाइयों को विधिवत टीका, आरती कर रक्षा सूत्र बांधा। रेवेंशा विश्वविद्यालय की छात्राओं ने फौजियों के साथ रक्षा बंधन का पर्व मनाया। छात्राओं ने जवानों व अधिकारियों को राखी बांध व मिठाई खिलाकर रक्षा का वचन लिया। फौजियों ने भी इस पल को यादगार बताया। कहा कि घर से दूर रहने के बावजूद उन्हें इस पर्व की कमी महसूस नहीं हुई। इसके अलावा स्वामी विचित्रानंद अनाथ आश्रम, डगरपड़ा में लिटिल मिस यूनिवर्स पद्मलया नंद की उपस्थिति में सामूहिक रूप से राखी का त्योहार मनाया गया। आज ही महाप्रभु बलभद्र जी का जन्म दिन होने से मंदिरों में भी विशेष पूजा-अर्चना का माहौल रहा। राखी के चलते बैलों को राखी बांधने की परंपरा कटक जिले में देखी गई। कुछ जगहों पर सामाजिक संगठन के लोगों ने पेड़ों को राखी बांधी और पर्यावरण को सुरक्षित रखने का संकल्प लिया।

Posted By: Jagran