भुवनेश्वर, जागरण संवाददाता। देश भर में कृषि फसलों के बाजार मूल्य में वृद्धि की मांग करते हुए भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के अध्यक्ष राकेश टिकैत चाहते हैं कि केंद्र सरकार जल्द से जल्द किसानों के लाभ के लिए एमएसपी गारंटी कानून तैयार करे। ओडिशा में एक टीवी चैनल की तरफ से भुवनेश्वर में आयोजित चर्चा में भाग लेते हुए टिकैत ने कहा कि देश में न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) से कम कीमत पर कोई भी फसल नहीं बेची जानी चाहिए। केंद्र सरकार को इसे सुनिश्चित करने के लिए एमएसपी गारंटी कानून लाना चाहिए। टिकैत ने कहा कि मछली पालन भी एमएसपी कानून के दायरे में आना चाहिए। मक्का, गन्ना, धान और गेहूं की फसलों में किसानों को एमएसपी की गारंटी दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं हुआ तो अगला किसान आंदोलन एमएसपी गारंटी कानून के बनाने को लेकर हो सकता है। केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए टिकैत ने पूछा कि भारत में कृषि और किसानों के मुद्दों को देखने के लिए अलग मंत्रालय क्यों नहीं है। उन्होंने कहा कि एक मंत्रालय के बजाय 18 मंत्रालयों को कृषि क्षेत्र की देखरेख का काम सौंपा गया है।

किसान नेता ने कहा कि यदि एमएसपी गारंटी कानून लागू होता है तो ओडिशा के किसानों को भी बड़े पैमाने पर लाभ होगा, बशर्तें कानून को राज्य सरकार द्वारा अक्षरश: लागू किया जाए। केंद्र सरकार पर किसानों का समर्थन नहीं करने का आरोप लगाते हुए टिकैत ने कहा कि केंद्र उनकी जमीन छीनने की कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा कि देश को जनप्रतिनिधियों के बजाय बड़ी कंपनियों और कारपोरेट घरानों द्वारा चलाया जा रहा है। उनकी राजनीतिक महत्वाकांक्षा के बारे में पूछे जाने पर टिकैत ने कहा कि न तो मेरी राजनीति में शामिल होने की दिलचस्पी है और न ही बीकेयू एक राजनीतिक संगठन या पार्टी बनने जा रहा है। उन्होंने केंद्र को बुनियादी ढांचे के विकास, बेहतर स्वास्थ्य सेवा और शिक्षा के जरिए देश में सुधार लाने का सुझाव दिया। कार्यक्रम के दौरान सौम्य रंजन पटनायक, फोर्टिस अस्पताल के दिगंबर बेहरा, अपोलो चेन्नई के दिलीप मिश्रा और अन्य गणमान्य व्यक्ति मौजूद थे। 

Edited By: Sachin Kumar Mishra