जागरण संवाददाता, भुवनेश्वर : कंधमाल जिला के द¨रगीबाड़ी स्थित प्रदेश के जनजातीय और ग्रामीण विकास विभाग की ओर से संचालित सेवा आश्रम हाई स्कूल के छात्रावास में कक्षा आठ की छात्रा के प्रसव मामले में रविवार को आठ लोगों को निलंबित करने के बाद शासन के निर्देश पर सोमवार को स्कूल की प्रधान शिक्षिका को भी निलंबित कर दिया गया। कंधमाल जिला के जिलाधीश ने प्रधान शिक्षिका राधारानी पंडा के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए रविवार को ही सरकार से सिफारिश की थी। जिनके निर्देश पर उक्त कार्रवाई की गई है।

जानकारी के अनुसार, कंधमाल जिले के द¨रगीबाड़ी थाना क्षेत्र में मौजूद एक विद्यालय के छात्रावास में शनिवार को कक्षा आठ की छात्रा ने कन्या को जन्म दिया था। इस घटना को लेकर इलाके में उत्तेजना का माहौल बन गया था और लोगों ने सड़क को जाम कर इसके लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की थी। इसके बाद मामले की प्राथमिक जांच करते हुए तत्काल प्रभाव से पहले ही तीन असिस्टेंड सुपरिटेंडेंट, एक एएनएम, दो मैट्रन एवं दो रसोईया सह अटेंडेंट को निलंबित कर दिया गया था। कंधमाल जिला कल्याण अधिकारी (डीडब्ल्यूओ) की शिकायत पर जांच करते हुए पुलिस ने इस मामले में दरिंगबाड़ी कॉलेज के तृतीय वर्ष का छात्र गिरफ्तार कर लिया गया है।

इधर, यह मामला सामने आने के बाद राज्य महिला कांग्रेस की अध्यक्ष एवं पूर्व विधायक अजयंती प्रधान के नेतृत्व में अमीय पटनायक, विधायक जाकव प्रधान, पूर्व सांसद नकुल नायक आदि पार्टी नेताओं ने दा¨रगीबाड़ी थाना क्षेत्र स्थित उक्त स्कूल के छात्रावास में जाकर मौका मुआयना किया और थाना पहुंचकर अब तक की जांच के संदर्भ में पुलिस अधिकारियों से जानकारी हासिल की थी। पीड़ित छात्रा के जीवन के प्रति खतरा होने का आरोप लगाते हुए कांग्रेस नेताओं ने दोषी के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की मांग की है। इसके बाद मामला और गरमाता देख प्रशासन ने जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उन्हें निलंबित कर दिया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप