जासं, भुवनेश्वर : देश में शोषित लोगों के लिए आवाज उठाने वाले बुद्धिजीवी, वकील, पत्रकार, मानवाधिकार कर्मियों एवं सामाजिक कर्मी को निशाना बनाना एवं गिरफ्तार करना बंद किया जाए। गुरुवार को रायगड़ा जिला के कल्याण¨सहपुर ब्लॉक अंतर्गत पारसाली गांव में पोस्टर एवं बैनर लगाकर माओवादियों ने सरकार से यह मांग की है। इलाके के डंगरिया बाजार के घरों एवं आंगनबाड़ी केंद्र में भी ऐसे ही पोस्टर साटे गए हैं। सीपीआइ नक्सल ओडिशा कमेटी लिखे पोस्टर व बैनर देखे जाने के बाद से इलाके में दहशत का माहौल है। हालांकि इसकी सूचना मिलने के बाद क्षेत्रीय पुलिस ने पहुंचकर सभी पोस्टर व बैनर जब्त कर मामले की छानबीन कर रही है। उल्लेखनीय है कि विगत 28 अगस्त को भी जिले के मुनिगुड़ा थाना अंतर्गत भुर्षाखुमा व राजूलुगुड़ा गांव में नक्सल पोस्टर देखने को मिले थे। बीडीएन डिवीजनल कमेटी एवं सीपीआइ नक्सल के नाम से यह पोस्टर लगाए गए थे।

Posted By: Jagran