जासं, भुवनेश्वर : बलांगीर में मेडिकल कॉलेज की स्थापना का जहां आम लोग स्वागत कर रहे हैं वहीं राजनीतिक दलों में इसका श्रेय लेने की होड़ लग गई है। बीजू जनता दल इस मेडिकल कॉलेज का समस्त श्रेय मुख्यमंत्री नवीन पटनायक को दे रहा है, जबकि भाजपा इसे केंद्र सरकार का अवदान बता रही है। ऐसे में कांग्रेस भी पीछे रहना नहीं चाहता। कांग्रेस इसे अपना अवदान बता रही है। नेता विपक्ष नर¨सह मिश्र का कहना है कि बलांगीर के मेडिकल कॉलेज के लिए यूपीए के शासनकाल में कांग्रेस द्वारा इस मेडिकल कॉलेज स्थापना के लिए लगातार प्रयास किए गए थे।

कांग्रेस के इस दावे को खोखला बताते हुए बीजद सांसद कलिकेश नारायण ¨सहदेव ने कहा कि नेता विपक्ष जिस मेडिकल कॉलेज की बात कर रहे हैं वह पब्लिक, प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी) मोड में बनने वाला निजी अस्पताल होता। सरकारी मेडिकल कॉलेज की स्थापना के लिए मुख्यमंत्री ने प्रयास किया और मुफ्त में राज्य सरकार ने जमीन उपलब्ध कराई। कांग्रेस और बीजद के दावों के उलट भाजपा का कहना है कि केंद्र के अनुदान से यह मेडिकल कॉलेज बनाया गया है, लेकिन शासक बीजद का आचरण देखिए कि केंद्र के अनुदान से बनने वाले इस मेडिकल कॉलेज के उद्घाटन उत्सव में केंद्र को धन्यवाद तक नहीं दिया गया। विज्ञापन में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री का नाम तक नहीं छापा गया। इससे सरकार की नीयत का पता चलता है।

Posted By: Jagran