मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

राउरकेला, जेएनएन। बिसरा थाना अंतर्गत बरसुआं गांव में सड़क निर्माण के कार्य में नियोजित ठेका कंपनी से लेवी न मिलने पर उनका रोड रोलर फूंकने के मामले में पुलिस ने तीन पूर्व नक्सलियों को गिरफ्तार किया है। यह तीनों नक्सली पहले झारखंड की प्रतिबंधित नक्सली संगठन के कोल्हान डिवीजन कमेटी से पांच साल पहले जुड़े थे। जिसके बाद तीनों ने संगठन छोड़ अपना अलग संगठन तैयार कर ठेकेदारों व अन्यों से लेवी वसूलने का काम कर रहे थे। गिरफ्तार आरोपितों से पुलिस ने तीन बंदूक व दो मोबाइल फोन भी जब्त किया है।

शनिवार को बिसरा थाना में डीएसपी सुरेशचंद्र पाठी व थाना प्रभारी बनिता मांझी की उपस्थिति में हुई प्रेसवार्ता में इसकी जानकारी दी गई। गिरफ्तार आरोपितों में बिसरा के चिरुबेड़ा निवासी 25 वर्षीय अजय उर्फ इलियास लोंगा उर्फ मुंडा, बिसरा के झारबेड़ा के लोहराटोला निवासी 42 वर्षीय सानिका लोहार उर्फ बीरबल एवं बिसरा के भालूलता निवासी 65 वर्षीय लेलेइटोला के मांगा ओराम शामिल है।

पुलिस ने बताया कि बिसरा से सान रामलोई जाने वाली ग्रामीण सड़क निर्माण का काम कोलकाता की नेशनल बिल्डिंग कंस्ट्रक्सन कारपोरेशन, एनबीसीसी को दिया गया है। जिसमें इस कंपनी के मैनेजिंग पाटर्नर विश्वजीत विश्वास ने गत 13 मार्च को शिकायत दर्ज कराई थी कि गत दो जनवरी व 13 जनवरी को लाल सलाम के नाम से धमकी भरा पत्र मिला था जिसमें पांच लाख रुपये की लेवी न देने से भयावह अंजाम होगा। जिसके बाद थाना प्रभारी बनिता मांझी व डीएसपी ज्योर्तिमय भोक्ता ने जांच शुरू की थी। इसमें मिले सुराग के आधार पर शुक्रवार की रात छापेमारी कर इन तीनों को गिरफ्तार कर लिया गया

Posted By: Babita

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप