जासं, भुवनेश्वर। Suraj Award. मृत्यु के बाद अंगदान कर अमर बन चुके ओडिशा के गंजाम जिले के भंजनगर थाना अंतर्गत लाल सिंह इलाके के सूरज सेठी को लेकर पूरे ओडिशा को गर्व है। ऐसे में गुजरात के सूरत में अंगदान कर अमर होने वाले ओडिआ बेटा सूरज के नाम पर वार्षिक पुरस्कार दिए जाने की घोषणा ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने की है।

मुख्यमंत्री ने कहा है कि आगामी दिनों में राज्य में जो भी व्यक्ति अपनी इच्छा से अंगदान करेगा, उस व्यक्ति या संस्था को ओडिशा सरकार सूरज पुरस्कार प्रदान करेगी। इस संदर्भ में नीतिगत निर्णय लिए जाने की जानकारी मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने मीडिया को दी है। मुख्यमंत्री ने लोकसेवा भवन में सूरज के माता-पिता से मुलाकात की। इस अवसर पर सूरज के इस अवदान के लिए उनके माता-पिता को धन्यवाद भी दिया। मुख्यमंत्री ने कहा है कि सूरज का कार्य समाज के लिए आदर्श बनेगा ए​वं अन्य लोगों के जीवन को बचाने में भी सहायक सिद्ध होगा। सूरज का परिवार अत्यंत ही गरीब है, ऐसे में परिवार को सहायता देने के लिए भी निर्णय लिया है। सूरज के पिता बाबुली सेठी एवं माता गीतांजलि सेठी को जमीन एवं बीजू पक्का घर योजना के तहत घर देने का आश्वासन देने के साथ मुख्यमंत्री राहत कोष से पांच लाख रुपया भी दिया जाएगा।

गौरतलब है कि 29 अक्टूबर को गुजरात के सूरत में हुए एक सड़क हादसे में सूरज बुरी तरह से घायल हो गए थे, चार दिन इलाज के बाद गत दो नवंबर को अस्पताल में उसकी मौत हो गई थी। एक स्वयंसेवी संगठन की मदद से सूरज के माता पिता से संपर्क किया गया। माता-पिता की अनुमति के बाद सूरज के शरीर से महत्वपूर्ण अंग हृदय, लीवर, किडनी तथा आंखों को डॉक्टरों ने निकाल कर अन्यों के शरीर में लगाकर छह लोगों को नया जीवनदान दिया। हृदय को तत्काल मुंबई स्थित फोर्टिस अस्पताल में इलाज करा रही एक महिला के शरीर में प्रत्यारोपण किया गया। उसी तरह से किडनी व लीवर को अहमदाबाद में तीन लोगों के शरीर में प्रत्यारोपण किया गया, जबकि दोनों आंखों को सूरत के दो लोगों के शरीर में प्रत्यारोपण किया गया था। 

ओडिशा की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sachin Mishra

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस