जासं, भुवनेश्वर! ओडिशा विधानसभा में आज वित्त मंत्री निरंजन पुजारी ने 2022-23 आर्थिक साल के लिए दो लाख करोड़ रुपये का बजट पेश किया है। वित्तमंत्री के इस बजट में शिक्षा, स्वास्थ्य एवं कृषि पर महत्व दिया गया है। वित्तमंत्री ने बजट पेश करते हुए कहा है कि राज्य सरकार ने बजट में विकास को महत्व दिया है। मिशन शक्ति के जरिए महिलाओं के विकास पर ध्यान दिया गया है। राज्य सरकार एवं फाइव टी के आधार पर सभी क्षेत्र में परिवर्तन किया गया है। कालिया योजना के आधार पर किसानों को 50 हजार रुपये तक का कर्ज दिया जाएगा। सरकार ने कृषि बजट में 21 हजार 166 करोड़ रुपये की व्यवस्था की है।

किस विभाग के लिए कितनी राशि की है व्यवस्था

  • कृषि के लिए 21 जार 166 करोड़ रुपया।
  • कालिया योजना के लिए 1874 करोड़ रुपया।
  • कृषि अनुषंधान एवं शिक्षा के लिए 161 करोड़ रुपया।
  • उद्यान कृषि के लिए 312 करोड़ रुपये।
  • कृषक परिवार आय सहायता के लिए 112 करोड़ रुपये।
  • जल सिंचाई के लिए कोरापुट में झंझावती प्रोजेक्ट आरंभ योजना।
  • 12500 नलकूप की खुदाई करने के लिए 400 करोड़ रुपये की व्यवस्था
  • बाढ़ नियंत्रण के लिए 968 करोड़ रुपया।
  • पार्वती गिरी योजना में 5 साल के लिए 10 हजार 759 करोड़ रुपया
  • किसानों को कृषि ऋण सूद सहायता के लिए 893 करोड़ रुपया।
  • मछलीपालन एवं पशुपालन के लिए 1658 करोड़ रुपया।
  • मछली खेती के लिए नई पोखर योजना में 89 करोड़ रुपया।
  • पंचायत पोखरी में मछली खेती के लिए एसएचजी को 38 करोड़ रुपया।
  • प्रशासनिक राजस्व व्यय के लिए 74 हजार 261 करोड़ रुपया।
  • वेतन के लिए 29 हजार 248 करोड़ रुपया, पेंशन के लिए 18 हजार 221 करोड़ रुपया।
  • ब्याज भुगतान के लिए 8 हजार 467 करोड़ रुपया, संपत्ति रखरखाव के लिए 5856 करोड़ रुपया।
  • आपदा संचालन कोष के लिए 3210 करोड़ रुपया।
  • खर्च अनुमान के लिए राजस्व प्राप्ति से 1 लाख 63 हजार 967 करोड़ रुपया।
  • कर्ज एवं अन्य बाबद प्राप्त 36 हजार 33 करोड़ रुपया खर्च होगा।
  • जनस्वास्थ्य के लिए 12 हजार 624 करोड़ रुपया।
  • बीजू स्वास्थ्य कल्याण योजना के लिए 2664 करोड़ रुपया।
  • शिक्षा एवं कौशल विकास के लिए 27,324 करोड़ रुपया।
  • मो स्कूल के लिए 646 करोड़ रुपया, स्कूल रूपांतरण के लिए 100 करोड़ रुपया।
  • मध्याह्न भोजन के लिए 851 करोड़ रुपया, बैग, यूनिफार्म के लिए 193 करोड़ रुपया।
  • धार्मिक स्थल के विकास के लिए 1950 करोड़ रुपया खर्च करने का लक्ष्य।
  • रास्तों के मरम्मत के लिए 1970 करोड़ रुपया।
  • बीजू एक्सप्रेस वे के लिए 300 करोड़ रुपया।
  • बीजू सेतु योजना में 281 सेतु बनाया जाएगा। इसके लिए 1688 करोड़ रुपये की व्यवस्था की गई है।
  • चार एयरपोर्ट (राउरकेला, जयपुर, उतकेला, झारसुगुड़ा) के लिए जमीन अधिग्रहण, नवीकरण के लिए 325 करोड़ रुपया।
  • ई.यान प्रोत्साहन के लिए 50 करोड़ रुपया।
  • बीजू पक्का घर योजना के लिए 5 हजार 906 करोड़ रुपया
  • मिशन शक्ति योजना में एसएचजी को 773 करोड़ रुपया,
  • महिला स्वयं सहायिका गोष्ठी गृह निर्माण के लिए 176 करोड़ रुपया।
  • मनरेगा के लिए 2001 करोड़ रुपया, मनरेगा कोष के लिए 1 हजार करोड़ रुपया।
  • वृद्ध, विधवा, विकलांग भत्ता के लिए 2017 करोड़ रुपया।

गरीब हितैषी और विकासोन्मुखी है: नवीन पटनायक

ओडिशा विधानसभा आज 2022-23 आर्थिक साल के लिए पेश किए गए बजट पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने कहा है कि यह बजट प्रगतिशील, गरीब हितैषी और विकासोन्मुखी बजट है। बजट का आकार बढ़कर 2 लाख करोड़ रुपये और कार्यक्रम का बजट 1 लाख करोड़ रुपये हो गया है। बजट की प्राथमिकता गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सुविधाएं, स्कूल परिवर्तन, जीवन और आजीविका, महिला सशक्तिकरण के साथ-साथ बुनियादी ढांचे के विकास सहित गुणवत्तापूर्ण शिक्षा का निर्माण करना है। पूंजीगत व्यय में 56% से अधिक की वृद्धि होगी, जिससे विकास को बढ़ावा मिलेगा। 2000 करोड़ रुपये के आवंटन के साथ मिशन शक्ति के लिए अलग बजट हमारे राज्य की 70 लाख महिलाओं के साथ हमारे जुड़ाव को और गहरा करेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि "बजट स्थिरीकरण कोष" बनाने की हमारी पहल भविष्य में किसी भी राजस्व झटके को कम करने में मदद करेगी। बजट में फाइव टी और मो सरकार के तहत हमारे परिवर्तनकारी एजेंडे के अनुरूप है। मुझे उम्मीद है कि यह बजट राज्य के लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करेगा।

Edited By: Vijay Kumar