भुवनेश्वर, जागरण संवाददाता। बेटा परीक्षा नहीं दे पाएगा, तो मैं आत्महत्या कर लूंगी। मेरा बेटा भी आत्महत्या करेगा। भुवनेश्वर कैपिटल हाइस्कूल के छात्र इमरान खान एवं उसकी मां ने मंगलवार को कुछ इसी तरह की चेतावनी दी है। यहां तक स्कूल के सामने मां-बेटे ने धरना देने के साथ ही आत्महत्या करने का भी प्रयास किया है। हालांकि ठीक समय पर पुलिस टीम वहां पहुंचकर उन्हें बचा लिया। स्कूल के अधिकारियों के कारण मेरा बेटा परीक्षा से वंचित होने की बात इमरान की मां ने आरोप लगाया है। हालांकि स्कूल के अधिकारियों ने उसके आरोप का खंडन किया है।

इमरान खान भुवनेश्वर कैपिटल हाईस्कूल का छात्र है। कोविड महामारी के कारण इस साल परीक्षा नहीं हुई थी और परीक्षा परिणाम घोषित किए गए थे। इमरान खान को 272 नंबर मिले थे। हालांकि बेटे के प्रथम डिवीजन में उत्तीर्ण होने की मां को उम्मीद थी। ऐसे में परीक्षा परिणाम से असंतुष्ट इमरान खान ने आफलाइन परीक्षा देने का निर्णय लिया। इसके लिए उसने फार्म भी भरा। इमरान की मां ने कहा है कि आफलाइन परीक्षा के लिए सभी का ऐडमिट कार्ड आ गया, यह बात जानने के बाद इमरान ऐडमिट कार्ड के लिए स्कूल गया। स्कूल में कहा गया है तुम्हारा फार्म ही नहीं भरा गया है। इससे इमरान मानसिक रूप से टूट गया। इसके बाद मां एवं बेटे दोनों स्कूल के सामने धरने पर बैठ गए और फिर आत्महत्या करने की धमकी देने लगे। शिक्षक जानबूझकर फार्म नहीं भरे हैं, बेटा परीक्षा नहीं दे पाया तो फिर मैं आत्महत्या कर लूंगी, यह चेतावनी इमरान की मां यस्मीन ने दी। यह बात जानने के बाद खारवेल नगर थाना पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने बेटे एवं मां को समझाया।

यस्मिन खान ने कहा है कि स्कूल का रेपुटेशन खराब होने की बात कहकर मेरे बेटे को फार्म नहीं भरने दिया गया। इससे मेरा बेटा परीक्षा देने से वंचित हो रहा है। मेरे बेटे का जीवन खराब हो जाएगा। यह बात स्कूल के अधिकारी नहीं समझ रहे हैं। मेरा बेटे को प्रथम श्रेणी में पास होना चाहिए, मगर उसे 272 नंबर मिला है। ऐसे में आफ लाइन परीक्षा देने का निर्णय लिया। आज सभी का ऐडमिट कार्ड आ गया है। किंतु मेरे बेटे का ऐडमिट कार्ड नहीं आया। स्कूल के शिक्षक बोल रहे हैं, तुम्हारे बेटे का फार्म ही नहीं भरा गया है। वहीं कैपिटल हाईस्कूल के प्रधान शिक्षक अमर कुमार बेहेरा ने कहा है कि इमरान के अभिभावक ने दो बार आकर संपर्क किया था। घर में बातचीत कर फार्म भरने की बात कही थी। किन्तु फार्म भरने के अंतिम दिन तक कोई नहीं आया। अब और फार्म भरना सम्भव नहीं है। स्कूल की तरफ से कोई गलती नहीं हुई है।

Edited By: Babita Kashyap