भुवनेश्वर, जेएनएन। पुलिस ने ऐसी दफा लगाई कि आधी रात को सभी अभियुक्तों को जमानत मिल गई। पुलिस के सामने मेरी पिटाई होने के बावजूद  आरोपियों पर हत्या की दफा नहीं लगाई गई। ऐसे में अभियुक्त को आसानी से जमानत मिल गई। इससे पुलिस के ऊपर से मेरा विश्वास अब उठ गया है और मैं अपनी जान के प्रति खतरा भी महसूस कर रहा हूं, यह बात एक सिख युवक परविन्दर पाल सिंह ने कही है।

गौरतलब है कि 14 जनवरी कार पार्किंग को लेकर लक्ष्मीसागर थाना अन्तर्गत भगवान अपार्टमेंट के पास परविंदर के ऊपर संघबद्ध तरीके से पुलिस के सामने जानलेवा हमला हुआ था। इस मामले में पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए तीनों अभियुक्तों को बुधवार रात को एसडीजेएम की अदालत ने जमानत दे दी है। परविंदर ने कहा है कि एक तरफ आरोपियों को जमानत मिल गई तो वहीं दूसरी तरफ बुधवार रात में कुछ लोग हमारा दरवाजा खटखटा रहे थे। ऐसे में लग रहा है कि मेरे लिए राजधानी में रहना अब सुरक्षित नहीं है। 

परविंदर ने कहा है कि पुलिस के सामने जिस प्रकार से मेरे उपर हमला हुआ लग रहा था पुलिस एवं अपराधी सब समान हैं। आरोपियों ने मेरी पिटाई करने के साथ मेरी पगड़ी उखाड़कर नीचे पटक  दी। हमारी जाति को गाली दी। यह सब पुलिस के सामने हुआ और पुलिस मूकदर्शक बनी रही। मेरी जान चली जाए, मगर मेरी सिख जाति एवं सम्मान पर जिस ढंग से हमला किया गया है, उसे मैं सहन नहीं कर पा रहा हूं। मुझे जीने की भी इच्छा नहीं है। घटना के बाद से ही मैं और मेरा परिवार भय के माहौल में जीने को मजबूर हैं।ओडिशा पुलिस पर तो मुझे बिल्कुल ही भरोसा नहीं है। मीडिया से बात करते हुए परविंदर पाल सिंह ने कहा है कि जरूरत पड़ी तो मैं अपने परिवार के साथ ओडिशा छोड़कर चला जाऊंगा। 

यहां उल्लेखनीय है कि बीजद के पूर्व पार्षद के भतीजे दीपक जेना, सहयोगी शंकर राउत एवं दीपक महांती के ऊपर परविंदर पाल सिंह पर हमला करने का आरोप है। पुलिस की उपस्थिति में एक व्यक्ति पर इस तरह से हमले पर लोगों ने कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर की थी, जिसके बाद कमिश्नरेट पुलिस ने अपनी लापरवाही को माना था और पीसीआर इंचार्ज सुभाष चन्द्र राउथ को सस्पेंड कर दिया था। 

आरोपी को रातों रात जमानत मिल जाने पर कमिश्नरेट पुलिस की भूमिका पर परविंदर के साथ लोग सवाल खड़े कर रहे हैं कि जिस व्यक्ति पर हमले के चलते एक कर्मचारी को नौकरी से निलंबित किया गया था उस मामले में पुलिस ने ऐसी कौन सी दफा लगाई कि आरोपी को जमानत मिल गई। जमानत की खबर सुनने के बाद परविंदर एवं उनका परिवार और भय के माहौल में जीने को मजबूर हो गया है।

 Republic Day 2020: इस बार खास होगा गणतंत्र दिवस, आसमान से होगी फूलों की बारिश

 

Posted By: Babita kashyap

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस