मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

भुवनेश्वर, जेएनएन। sawan 2019 राज्य के विभिन्न शिवालयों में आज सावन महीने के पहले सोमवार को बाबा भोले नाथ को जलाभिषेक करने के लिए भक्तों में खासा उत्साह देखा गया। देवों के देव महादेव को जल चढ़ाने के लिए राज्य के विभिन्न शिवालयों में श्रद्धालुओं का हुजूम उमड़ा। भोर तीन बजे से ही श्रद्धालुओं ने कतार में खड़े होकर अपनी बारी आने पर महाप्रभु को जल चढ़ाए। भक्तों को किसी प्रकार की असुविधा न हो इसके लिए तमाम शिवालयों में बैरेकेड की व्यवस्था की गई थी। 

भुवनेश्वर के लिंगराज महाप्रभु से लेकर पुरी के लोकनाथ मंदिर, कटक जिला के धवलेश्वर, ढेंकानाल जिला के कपिलास, भद्रक जिला के प्रसिद्ध शैवपीठ अखंडलमणि धाम, सम्बलपुर जिला के धमास्थित विमलेश्वर मंदिर में आज हजारों की संख्या में कांवरियों की भीड़ देखी गई। भोले बाबा के जयकारे से तमाम शिव क्षेत्र गुंजयमान रहा। महाप्रभु लिंगराज मंदिर के साथ तमाम शिवालयों में में भोर तीन बजे मंदिर का दरवाजा खुलने के बाद श्रद्धालु कतार में आकर महाप्रभु को जललागी किए। किसी भी प्रकार की असुविधा से निपटने के लिए तमाम शिवालयों में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए गए थे। 

 

श्रद्धालु भोले बाबा का जयकारा लगाते हुए विभिन्न शिवालयों में जल चढ़ाने के लिए कतार में घंटों खड़े रहे। केवल पुरुष ही नहीं बल्कि महिला शिव भक्तों की भी खासी भीड़ पहले सोमवार को विभिन्न शिवालयों में देखी गई। श्रद्धालुओं के मुताबिक सावन महीने में भगवान भोले नाथ के मस्तक पर जल चढ़ाने से सभी प्रकार की मनोकामना पूरी होती है। 

Posted By: Babita kashyap

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप