भुवनेश्वर, जागरण संवाददाता। ट्रेन के जरिए यात्रा करने वाले यात्रियों को जल्द ही अच्छी खबर मिलने वाली है क्योंकि देश में जल्द ही विशेष ट्रेनों का परिचालन बंद कर सामान्य दिनों की तरह ट्रेनों का परिचालन किए जाने के संकेत रेलवे से मिल रहे हैं। जानकारी के मुताबिक कोरोना महामारी के बाद से ही पूरे देश में विशेष ट्रेन का प्रचलन किए जाने से यात्रियों को अपने गंतव्य स्थल के लिए अतिरिक्त चार्ज देना पड़ रहा था। अब जब पूरे देश में कोरोना की स्थिति सामान्य हो रही है तो फिर रेलवे ने भी विशेष ट्रेन परिचालन व्यवस्था को समाप्त कर सामान्य ट्रेन संचालन करने के लिए युद्ध स्तर पर अपने प्रयास आरंभ कर दिए हैं।

पीआरएस सिस्टम में बदलाव

जानकारी के मुताबिक नियमित नंबर एवं नियमित किराए के अनुसार ट्रेनों के परिचालन को ले लेकर पीआरएस सिस्टम में बदलाव किया जा रहा है। इसके लिए अगले एक सप्ताह तक रात में 6 घंटे रेलवे यात्री आरक्षण प्राणाली को को बंद किया गया है। रात 11:30 बजे से सुबह 5:30 बजे तक यह सेवा बंद रहेगी। पूर्वतट रेलवे से मिली जानकारी के मुताबिक नियमित नंबर एवं नियमित किराए के अनुसार ट्रेनों के परिचालन को ले लेकर पीआरएस सिस्टम में बदलाव किया जा रहा है। इस दौरान सिस्टम डेटा के उन्नयन और नई ट्रेन नंबरों आदि के अद्यतन को सक्षम किया जाएगा। चूंकि सभी मेल/एक्सप्रेस ट्रेनों में बड़ी मात्रा में अतीत (पुरानी ट्रेन नंबर) और वर्तमान यात्री बुकिंग डेटा अपडेट किया जाना है, इसलिए इसकी एक श्रृंखला में योजना बनाई जा रही है। यह गतिविधि 14 और 15 नवंबर की मध्यरात्रि से शुरू हो गई है जो कि 20 और 21 नवंबर 05:30 बजे तक जारी रहेगी। इन 6 घंटों (23:30 से 05:30 बजे तक) की अवधि के दौरान, कोई पीआरएस सेवाएं (टिकट आरक्षण, वर्तमान बुकिंग, रद्दीकरण, पूछताछ सेवाएं आदि) उपलब्ध नहीं होंगी।

पूछताछ सेवाएं निर्बाध रूप से जारी रहेंगी

इस अवधि के दौरान रेल कर्मी प्रभावित समय के दौरान ट्रेनों को शुरू करने के लिए अग्रिम चार्टिंग सुनिश्चित करेंगे। पीआरएस सेवाओं को छोड़कर, 139 सेवाओं सहित अन्य सभी पूछताछ सेवाएं निर्बाध रूप से जारी रहेंगी। ट्रेन संख्या अब शून्य से शुरू नहीं होगी, जैसा कि विशेष ट्रेनों के मामले में था। विशेष ट्रेन नंबरों को नियमित ट्रेन नंबरों में बदलने की प्रक्रिया पहले ही शुरू कर दी गई है और अगले सात दिनों के भीतर पूरा होने की उम्मीद है। ऐसे में सम्मानित ग्राहकों से अनुरोध है कि वे यात्री सेवाओं को सामान्य और उन्नत करने के प्रयास में हमारा समर्थन करें।

Edited By: Babita Kashyap