भुवनेश्वर, जेएनएन। कमिश्नरेट पुलिस क्षेत्र में खुल्लम-खुल्ला बंदूक का कारोबार चल रहा है। इस कारोबार की जड़ बिहार से भुवनेश्वर तक फैली हुई है। छात्र एवं करोड़पति घर के बच्चे इस गैरकानूनी कारोबार से जुड़े हुए हैं। पढ़ाई की आयु में हाथ में बंदूक और गोली पकड़ रहे हैं। सोमवार को इसी तरह के घटने का पर्दाफाश क्राइमब्रांच एसटीएफ ने किया है। कमिश्नरेट पुलिस के खंडगिरी थाना अन्तर्गत गंडमुंडा में उपभोक्ताओं के साथ डील करते समय एसटीएफ की टीम ने छापामार कर तीन बंदूक, 22 गोली एवं 5 मैगजीन को जब्त किया है।

इसके साथ ही पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार होने वालों में झारखंड प्रदेश के सानू पोद्दार (21), एवं खण्डगिरी लेक वैली-2 में रहने वाला सुरेश पाणीग्राही उर्फ लिपुन है। सानू स्थानीय एक कालेज में तीसरे साल का बीबीए छात्र है और उसका घर झारखंड में है। लिपुन एक करोड़पति व्यवसायी का बेटा है पिछले साल ही वह बीबीए पास किया है। एसटीएफ आईपीसी की दफा 25 (ए) के तहत मामला (नंबर 13 बटा 20) दायर कर दोनों को भुवनेश्वर एसडीजेएम की अदालत में रेफर किया, जहां से जमानत नामांजूर हो जाने के बाद उन्हें झारपड़ा जेल भेज दिया गया है।

छापामारी के समय बंदूक खरीदने आए एकाधिक लोगों के बोलरो, बुलेट एवं दो बाइक से फरार हो गए। गिरफ्तार सानू पोद्दार एवं लिपुन को एसटीएफ टीम तीन दिन की रिमाण्ड में लाकर पूछताछ कर रही है। सानू झारखंड में किससे एवं किस मार्ग से बंदूक ला रहा था। इसके साथ ही राजधानी भुवनेश्वर के साथ राज्य के अन्य कितने जिलों में किसे बंदूक इन लोगों ने बेचा है, जांच की जा रही है। उनके बयान के आधार पर झारखंड जाकर डिलर को भी गिरफ्तार करने की योजना एसटीएफ बना रही है। 

एसटीएफ ने जो तीन बंदूक को जब्त किया है, वह 7.65 एमएम सोफिस्टिकेटेड आटोमेटिक है। यह अत्याधुनिक हथियार है। इस पर मेड इन इटली लिखा हुआ है। यह असली या केवल इटली बंदूक की नकल कर तैयार की गई है।

पिता की है दवा की दुकान, बेटा कर रहा है बंदूक का कारोबार

लिपुन का घर गंजाम जिले में है। वह गंडमुंडा लेक वैली-2 में परिवार के साथ रहता है। लिपुन एक धनी परिवार का लड़का है। एयरफिल्ड थाना क्षेत्र के साथ भुवनेश्वर के विभिन्न जगहों पर दवा की दुकान है। एक करोड़पति का बेटा आखिर इस गैरकानूनी कारोबर में कैसे जुड़ा उसकी जांच पुलिस कर रही है।

सानू यहां बीबीए की पढ़ाई करते समय लिपुन के घर में किराए पर रह रहा था। लिपुन भी उसी कालेज में पढ़ता था ऐसे में दोनों की दोस्ती हो गई। दोनों एक ही साथ कालेज आना जाना कर रहे थे। सानू ओडिशा आने से पहले गैरकानूनी बंदूक के कारोबार से जुड़ा हुआ था। वह लिपुन को अपने जाल में फंसा लिया और उसे भी अपने साथ जोड़ लिया, फिर दोनों मिलकर गैरकानूनी ढंग से बंदूक का कारोबार करने लगे।

चिंताजनक: ओडिशा में वर्ष 2019 में 12 लाख बार हुई है वज्रपात की घटना

Posted By: Babita kashyap

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस