भुवनेश्वर, जेएनएन। राजधानी में पिछले 23 दिन से शिक्षकों का विधानसभा के सामने धरना-प्रदर्शन चल रहा है। मांग पूरी न होने तक शिक्षक धरना से हटने को तैयार नहीं हैं और राज्य सरकार शिक्षकों की मांग पूरी करने की दिशा में कोई ठोस कदम उठाती नहीं दिख रही। यह बात शुक्रवार को पीएमजी चौक पर धरना दे रहे शिक्षकों से मुलाकात के क्रम में केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेद्र प्रधान ने कही।

प्रधान ने कहा कि सरकार के पास आम गां आम विकास, बीजू वाहिनी के लिए पैसा हैं, मगर जो हमारे बच्चों का जीवन संवारते हैं, उनके लिए सरकार के पास पैसा नहीं है, यह दुखद है। 800 करोड़ रुपये कोई बड़ी रकम नहीं है। उन्होंने आह्वान किया कि नवीन पटनायक सरकार शिक्षकों की मूलभूत समस्या का जल्द समाधान करने की दिशा में कदम उठाए। अहंकार छोड़कर शिक्षकों से मुलाकात कर उनकी समस्या का समाधान करना बहुत जरूरी है।

उल्लेखनीय है कि राज्य के चार हजार ब्लाक ग्रांट स्कूल एवं 1100 जूनियर एवं डिग्री कॉलेज में इन दिनों ताला लटक रहा है। हालांकि राज्य के शिक्षा मंत्री बद्री नारायण पात्र ने कहा है कि शिक्षक की मांग पर चर्चा चल रही है। मुझे उम्मीद है कि शिक्षक अपने अपने स्कूल लौट जाएंगे और स्कूलों में पुन: शैक्षिक वातावरण उत्पन्न होगा। मंत्री की इस बात का शिक्षकों पर कोई असर नहीं पड़ा है और शिक्षक मांग पूरी न होने तक अपना आदोलन जारी रखने का एलान कर दिया है।