भुवनेश्वर, जागरण संवाददाता। प्रदेश में नौकरी देने के नाम पर ठगी करने का एक और मामला सामने आया है। नियुक्ति देने को कहकर एक बार फिर हजारों रुपये की ठगी हुई है। इस बार ठगी का यह मामला प्रदेश के अनुगुल जिले से सामने आया है। पुलिस इस ठगी मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार कर पूछताछ कर रही है।गिरफ्तार अभियुक्तों में राजकिशोरपड़ा का रंजन कुमार त्रिपाठी, उसकी,पत्नी मिताली त्रिपाठी एवं रेंगाली इलाके का रंजन कुमार साहू का नाम शामिल है।

सूचना के मुताबिक पिछले साल 5 दिसम्बर को एक दैनिक अखबार में नियुक्ति का विज्ञापन निकला था। इसमें ओड़िशा के विभिन्न औद्योगिक क्षेत्र के लिए आवश्यक होने का विज्ञापन दिया गया था। विज्ञापन पढ़ने के बाद गजपति जिले के पारलाखेमुंडी में रहने वाले पी.धर्मा राव ने अपने बेटे के लिए आवेदन किया था। आवेदन फार्म को विज्ञापन में दिए गए ई-मेल में उसने भेजा था। कुछ दिन बाद एक मोबाइल नंबर से उन्हें फोन आया। पंजीकरण के लिए 52 हजार रुपया देने के लिए कहने के साथ ही एक निर्धारित बैंक खाते में डिपोजिट करने के लिए एकाउंट नंबर दिया गया।

नौकरी के लिए पहले से ही चिंतित रहने वाले पी.धर्मा राव ने 52 हजार रुपया उस बैंक खाते में जमा कर दिया। रुपया जमा करने के बाद पी.धर्मा राव ने नियुक्ति पत्र मांगने के लिए फोन किया मगर ठगों ने फोन नहीं उठाया। इसके कुछ दिन बाद फिर 15 हजार रुपया ठगों ने मांगा। पहले का पैसा वापस करने के लिए राव द्वारा कहे जाने के बाद इसके लिए पुन: 2 हजार रुपया जमा करने को ठगों ने कहा। 2 हजार रुपया पी.धर्मा राव ने जमा कर दिया मगर उसे वापस पैसा नहीं मिला। इसके बाद से ठगों ने फोन को बंद कर दिया।

पी.धर्मा राव तब समझ गया वह ठगी का शिकार हो गया है और इस संबन्ध में अनुगुल पुलिस के पास शिकाय की। अनुगुल थाना अधिकारी मामले की जांच कर रंजन त्रिपाठी एवं उसकी पत्नि मिताली के साथ घटना में शामिल अन्य एक अभियुक्त रंजन साहू को गिरफ्तार कर कोर्ट चालान कर दिया है। पुलिस ने अभियुक्त ठगों के पास से 3 बैंक पासबुक, तीन एटीएम कार्ड, तीन मोबाइल फोन, पैन कार्ड, आधार कार्ड, एक मोटरसाइकिल जब्त किया है। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप