जासं, भुवनेश्वर : प्रदेश के विभिन्न शहरों में दिन प्रतिदिन बढ़ रहे प्रदूषण समस्या से निजात पाने के लिए कई उपाय किए जा रहे हैं। इस क्रम में सरकार ने निर्णय लिया है कि राज्य के 6 प्रदूषण प्रभावित शहरों में अब दिन के समय ट्रकों की आवाजाही पर रोक लगाई जाएगी। राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के 33वें स्थापना दिवस समारोह में मुख्य अतिथि जंगल व पर्यावरण मंत्री बिक्रम केशरी आरुख ने कहा कि शहरों में प्रदूषण कम करने के लिए सीवरेज प्लांट लगाए जाएंगे। मंत्री ने माना कि राज्य की 19 नदियां प्रदूषण की मार झेल रही हैं। नदियों को कचरा मुक्त करने के लिए विशेष प्रयास किए जाएंगे। मंत्री ने कहा कि जल और हवा के प्रदूषण को नियंत्रण करने के लिए निर्धारित मानकों का अनुपालन किया जाना आवश्यक है। उन्होंने कहा कि शहरों में उत्पन्न होने वाले कचरा के निपटान की समस्या दिनों दिन गंभीर होती जा रही है। अत: इस समस्या से निपटने के लिए हर शहर में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाए जाएंगे। विभागीय सचिव मोना शर्मा ने प्रदूषण पर रोक लगाने के लिए सरकार की ओर से उठाए जा रहे कदमों की जानकारी दी। राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के सदस्य सचिव देवीदत्त विश्वाल ने कहा कि इन 6 प्रदूषित शहरों में भुवनेश्वर के साथ कटक, राउरकेला, बालेश्वर, अनुगुल, तालचेर शामिल है। इन शहरों में प्रदूषण की मात्रा अनुमोदित मात्रा से अधिक है। इसे खत्म करने के लिए एक्शन प्लान तैयार कर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) को दिया गया है। धूल के कारण इन शहरों में प्रदूषण की मात्रा अधिक होने के चलते ट्रक या भारी वाहनों को दिन के समय शहर के अंदर प्रवेश पर रोक लगाने की योजना बन रही है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप