भुवनेश्वर, जेएनएन। बंगाल की खाड़ी में बने कम दबाव के प्रभार से लगातार हो रही बारिश के चलते राज्य

कुछ जिलों में बाढ़ की स्थिति उत्पन्न हो गई है। इससे लोगों की हालत खराब हो गई है। खासकर मलकानिगरी जिले के माथिली एवं खइरीपुट ब्लाक में बाढ़ की स्थिति गंभीर हो गई है। इससे माथिली का

जयपुर एवं मलकानगिरी के बीच संपर्क कट गया है। इस ब्लाक के छह पंचायतों का संपर्क बाहरी दुनिया से कट गया है।

किआंग, सालिमी, टेमृपाली, कर्तनपाली, महुपदर, कमारपाली आदि पंचायच पानी के घेरे में हैं। महुपदर पंचायत के माड़ीमुंडा पुल के ऊपर पांच फीट बाढ़ का पानी प्रवाहित होने से छत्तीसगढ़ के साथ संपर्क कट गया है। उसी तरह खइरीपुट के पास मौजूद एक कलवर्ट पानी के तेज बहाव में बह गया है। इससे माझीगुड़ा एवं केंदुगुड़ा के बीच संपर्क कट गया है। पांगम नदी का जल स्तर लगातार बढ़ने से पांगम पुल के ऊपर चार फीट पानी बह रहा है। माथिली-मलकानगिरी मुख्य रास्ते पर आवागमन ठप हो गया है।

अगले 24 घंटे तक राज्य में भारी बारिश होने की संभावना

भुवनेश्वर मौसम विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक बंगाल की खाड़ी में बना कम दबाव का क्षेत्र अवपात का रूप धारण कर लिया है, जिसके प्रभाव से आगामी 24 घंटे तक राज्य विभिन्न जगहों पर भारी से भारी बारिश होने की संभावना है। इस समय के दौरान आसमानी बिजली गिरने के साथ तेज हवा भी चलेगी। हवा की गति लगभगह 35 से 45 किमी प्रति घंटा हो सकती है।

केरल की बाढ़ में फंसे ओडिशा के 187 लोग

मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने केरल में बाढ़ राहत के लिए वहां के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन के साथ फोन पर बातचीत करने के साथ और पांच करोड़ रुपये सहायता देने की घोषणा की है। साथ ही केरल में फंसे ओडिशा के 187 लोगों को बचाने तथा उन्हें तमाम सुविधा मुहैया कराने का अनुरोध किया। मुख्यमंत्री ने कहा है कि ओडिशा सरकार केरल सरकार को बाढ़ की समस्या से निपटने के लिए हर संभव मदद देने को तैयार है। पहले ही पांच करोड़ रुपये की मदद और 245 प्रशिक्षित आपदा राहत के लिए जवान नाव के साथ भेजे गए हैं।

 

Posted By: Babita