जासं, भुवनेश्वर : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के तालचेर दौरे से पहले शुक्रवार को केंद्रीय मंत्री धर्मेद्र प्रधान तालचेर खाद कारखाना में समीक्षा बैठक करने के साथ एफसीआइ के पूर्णाग प्लांट, हेलीपैड, खेल मैदान एवं बलंडा ब्लाक में स्थित डाइमंड स्टेडियम का परिदर्शन किया है।

जानकारी के अनुसार आगामी 22 सितंबर को 13 हजार करोड़ रुपये से बंद पड़े तालचेर खाद कारखाने के पुनरुद्धार के लिए प्रधानमंत्री के शिलान्यास करने का कार्यक्रम है। इस कारखाना में नई कारीगरी कौशल से कोल गैसीफिकेशन से यूरिया एवं अमोनिया खाद का उत्पादन होने की जानकारी प्रधान ने दी। इसी दिन तालचेर थर्मल के नए प्रोजेक्ट के लिए सात हजार करोड़ रुपये की लागत से 1300 मेगावाट बिजली उत्पादन केंद्र का भी प्रधानमंत्री शिलान्यास करेंगे। प्रधान ने कहा कि तालचेर में 20 हजार करोड़ रुपये के निवेश से निर्मित होने जा रहे इन दोनों बृहत प्रोजेक्ट का शिलान्यास प्रधानमंत्री द्वारा किए जाना इस इलाके के लिए सौभाग्य की बात है। इन दोनों बृहत प्रोजेक्ट का कार्य आगामी अक्टूबर महीने से शुरू होगा।

प्रधान ने तालचेर कारखाना पहुंचने के बाद उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक करते हुए प्रधानमंत्री के दौरे को लेकर भी चर्चा की। इसके बाद उन्होंने तालचेर थर्मल में वरिष्ठ अधिकारियों के साथ भी बात की। समीक्षा बैठक में गेल इंडिया, आरसीएफ एवं एफसीआइ तथा एनटीपीसी के वरिष्ठ अधिकारी के साथ तालचेर के डीआइजी नर¨सह भोल, जिलाधीश अनिल कुमार सामल, एसपी मित्रभानू महापात्र प्रमुख उपस्थित थे।

केंद्रीय मंत्री ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि केंद्र सरकार द्वारा तालचेर में इन दोनों बड़े प्रोजेक्ट को शुरू किया जा रहा है, जो कि तालचेर वासियों का सपना था। इससे पहले प्रधान के ताचलेर पहुंचने पर वहां उनका भव्य स्वागत किया गया। एक विशाल रैली में एफसीआइ साइट को ले जाया गया था।

Posted By: Jagran