जासं, भुवनेश्वर : चक्रवात फणि ने पुरी जिला में पान की खेती के लिए मशहूर चंदनपुर में जमकर तबाही मचाते हुए यहां पान की खेती को पूरी तरह से उजाड़ कर रख दिया है। इससे पान की खेती पर निर्भर रहने वाले परिवारों के समक्ष रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है। इलाके में 16 गांव के लोग सालों से पान की खेती करते आ रहे हैं। लोगों का कहना है कि पान के लिए बनाए गए मचान (बर्ज) हवा में उड़ गए और इसी के साथ पान की जड़ें भी नष्ट हो गई। मचान पर बालू चढ़ गया है। चंदनपुर, जानकीदेइपुर, रघुराजपुर, तलजंग, मालीसाही, दाशगोवा, सोड़का, वीरनरसिंहपुर, चालीशबाटिया तथा इसके आस-पास के करीब 5 हजार से अधिक पान के बर्ज नष्ट हो गए हैं। चक्रवात अपने साथ इस इलाके के लोगों के घर द्वार को नुकसान करने समेत इनकी रोजी रोटी को भी नष्ट कर दिया है। पान की खेती करने वाले किसान अशोक परिड़ा ने बताया कि मचान को बनाने में लाखों रुपये खर्च होता है। पान की ही खेती से उनका घर परिवार चलता है। ओडिशा तथा बाहर राज्य को भी यहां से पान जाता था। यहां का पान मीठा एवं स्वादिष्ट होने से लोगों में इसकी मांग होने व्यापारी इसे अधिक कीमत देकर खरीदते थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप