भुवनेश्वर, जागरण संवाददाता। सामाजिक कार्यकर्ता आदित्य दास मृत्यु मामले की जांच क्राइम ब्रांच करेगी। यह जानकारी पुलिस डीजी अभय ने ट्वीट कर दी है। यहां उल्लेखनीय है कि सामाजिक कार्यकर्ता आदित्य दास मृत्यु मामले में की जा रही कार्रवाई के बारे में रिपोर्ट चार सप्ताह के अन्दर दाखिल करने के लिए राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने भुवनेश्वर पुलिस आयुक्त को नोटिस दिया है। 24 जुलाई को राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग में सुप्रीम कोर्ट के वकील तथा सामाजिक कार्यकर्ता राधाकांत त्रिपाठी ने शिकायत की थी। 

गौरतलब है कि आदित्य दास का शव 7 जुलाई को रेलवे पुलिस लंगराज रेल स्टेशन के पास से उद्धार किया था। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम करने के लिए कैपिटल अस्पताल भेजा था। इसके बाद मृत्यु मामले की जांच प्रक्रिया रेलवे पुलिस ने शुरु किया। लोगों में चर्चा होने लगी कि आदित्य दास ने आत्महत्या नहीं की है बल्कि उनकी हत्या की गई है। जीआरपी इस बीच मामले की जांच प्रक्रिया जारी रखी हुई थी कि आज पुलिस डीजी अभय ने मामले की जांच की जिम्मेदारी अब क्राइम ब्रांच को दे दी है।

  सोशल मीडिया में सक्रिय रहने वाले आदित्य दास एक मोटिवेशनल स्पीकर के तौर पर भी काफी लोकप्रिय थे। पिछले जून महीने में कटक खपुरिया में उन्होंने विद्याश्री के साथ शादी की थी। विवाह के एक महीने बाद उन्होंने क्यों आत्महत्या की, उसे लेकर संदेह किया जा रहा है। 7 जुलाई को लिंगराज स्टेशन के पास रेल लाइन के ऊपर मानवाधिकार तथा सामाजिक कार्यकर्ता आदित्य दास की मृत्यु को लेकर आवेदनकारी ने दर्शाया है कि पुलिस अब तक मृत्यु के कारण के बारे में ही पता नहीं लगा पायी है।

Posted By: Babita kashyap

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस