संसू, भुवनेश्वर : बड़े तामझाम के साथ शुरू किए गए आदर्श स्कूल योजना से अभिभावक संतुष्ट नजर नहीं आ रहे हैं। कटक जिले के बांकी प्रखंड में बांकी और डमपाड़ा में दो आदर्श विद्यालय की स्थापना की गई है। पहले तो अभिभावकों को लगा कि सरकार यहां सीबीएसइ के तौर पर पढ़ाई की व्यवस्था करेगी, जिसमें बच्चे प्रतियोगितात्मक वातावरण के साथ खुद को आगे पाएंगे। बाद में देखा जा रहा है कि इस आदर्श स्कूलों में ओड़िआ मीडियम के शिक्षक ही पढ़ा रहे हैं।

ऐसे में बांकी ब्लक के ब्रह्मापुरा स्थित रघुनाथ देवता हाईस्कूल परिसर में चल रहे आदर्श विद्यालय से कई अभिभावकों ने अपने बच्चों का स्कूल परित्याग प्रमाणपत्र (एसएलसी) ले लिया है और कई अभिभावक एसएलसी के लिए आवेदन कर चुके हैं। अभिभावकों का आरोप है कि आधारभूत सुविधा की व्यवस्था किए बगैर आदर्श स्कूल खोल कर सरकार गुमराह करने का काम कर रही है। इससे बच्चों का भविष्य अंधकार में जा रहा है।

Posted By: Jagran