भुवनेश्वर, जेएनएन। किसानों की आय को दुगुनी करने के लिए भारत सरकार पूरी मदद कर रही है, ऐसे में मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने केन्द्रीय पीएम किसान योजना का स्वागत किया है। हालांकि मुख्यमंत्री ने इस योजना में कुछ खामियां बताते हुए उसे सुधारने के लिए भी अनुरोध किया है। मुख्यमंत्री ने अपने पत्र में उल्लेख किया है कि 2018 दिसम्बर महीने में किसानों के हित के लिए राज्य सरकार ने कालिया योजना शुरू की है।

यह कृषि क्षेत्र में विकास को गति देने के साथ राज्य में गरीबी दर कम करने में भी मददगार साबित होगी। इस योजना के संदर्भ में मुख्यमंत्री ने कहा है कि यह एक प्रगतिशील ए​वं लोकाभिमुखी योजना है। राज्य में करीबन 92 प्रतिशत किसान, बटैया किसान, भूमिहीन कृषि श्रमिकों को शामिल किया गया है। ग्रामीण इलाकों में भूमिहीन परिवार के लिए केवल श्रम क्षेत्र से मिल रही मजदूरी उनकी आय को बढ़ाने के लिए पर्याप्त नहीं है। ऐसे में कालिया योजना के तहत ग्रामीण अर्थनीति को बढ़ाने की दिशा में पशु पालन, मछलीपालन पर बल दिया गया है। केवल इतना ही नहीं विभिन्न कारण से जो किसान खेती नहीं कर रहे हैं या फिर अपनी आजीविका नहीं चला पा रहे हैं, ऐसे किसान परिवार को कालिया योजना में आर्थिक सहायता दी जा रही है। पिछले जनवरी महीने में इस योजना को कार्यकारी किए जाने की बात को दर्शाते हुए मुख्यमंत्री ने कहा है कि इस योजना ने राज्य के किसानों में उत्साह पैदा करने का काम किया है। इस योजना में एक भी योग्य हिताधिकारी वंचित न हो इस दिशा में राज्य सरकार काम कर रही है। 

वहीं मुख्यमंत्री ने पीएम किसान योजना में रहने वाली कमियों को भी दर्शाया है। मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय योजना को लोकाभिमुखी बनाने के लिए सलाह दिया है। इसके लिए भूमिहीन श्रमिक, बटैया किसान, असुविधा में रहने वाले किसान परिवार को पीएम किसान योजना में शामिल करने आदि सलाह पर ध्यान देने के लिए मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में अनुरोध किया है। 

Posted By: Babita

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप