भुवनेश्वर, जेएनएन। Cyclone Fani ओडिशा की तरफ धीरे-धीरे बढ़ रहा चक्रवाती तूफान फानी शुक्रवार को दोपहर 12 बजे के बाद किसी भी क्षण स्थल भाग से टकरा सकता है। वर्तमान समय में वह 15 किमी. प्रति घंटा की रफ्तार से आगे बढ़ रहा है और खबर लिखे जाने तक पुरी से 360 किमी. की दूरी पर था। मिली जानकारी के मुताबिक पुरी सातपड़ा के पास फनी लैंडफाल करेगा। इस समय हवा की रफ्तार 170 से 190 किमी. के बीच रहेगी। जब वह स्थल भाग से टकराएगा तब हवा की गति कुछ जगहों पर 200 किमी. प्रतिघंटा हो जाएगी। फानी के प्रभाव से राज्य के कुछ जगहों पर बारिश शुरू हो गई है। पुरी में आने वाले पर्यटक शहर खाली कर चुके हैं।चक्रवाती तूफान से ओडिशा में झमाझम बारिश हो रही है।

मिली जानकारी के मुताबिक समुद्री तूफान फानी जिस समय लैंडफाल करेगा उस समय डेढ़ मीटर ऊंची समुद्री लहर उठेगी। ऐसे में इस समय निचले इलाकों में समुद्री पानी घुसने का अनुमान किया गया है। ओडिशा के चार जिलाें गंजाम, जगतसिंहपुर, खुर्दा, पुरी में जिला प्रशासन को इसके लिए सतर्क रहने का निर्देश दिया गया है। समुद्र के अन्दर मछुआरों को नहीं जाने की सलाह दी गई है। 

फानी को लेकर मुख्यमंत्री ने की समीक्षा बैठक, जीरो कैजुअल्टी पर  जोर

चक्रवाती तूफान फानी भयंकर रूप धारण करते हुए ओडिशा  तट की तरफ आगे बढ़ रहा है। इससे निपटने के लिए सरकार एवं प्रशासन की तरफ से व्यापक इंतजाम किए गए हैं। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने प्रशासन की तरफ से उठाए गए कदम की समीक्षा करते हुए गुरुवार शाम तक 8 लाख लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने के लिए निर्देश दिया है।

खबर के मुताबिक 3 मई को शाम 5 बजे तक फानी तूफान पुरी में स्थल भाग से टकराएगा। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने तूफान की चपेट में आने वाले सभी जिलों के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ चर्चा करते हुए जीरो कैजुअल्टी पर जोर दिया है। प्रशासन ने 10 लाख लोगों को स्थानांतरित करने का लक्ष्य रखा है, जिसमें से 8 लाख लोगों को गुरुवार शाम तक पहुंचाने की प्रक्रिया आज सुबह से ही शुरू कर दी गई है।

समीक्षा बैठक करने के बाद मुख्यमंत्री श्री पटनायक ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि चक्रवाती तूफान से निपटने के लिए सभी प्रकार के जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं। जीरो कैजुअल्टी एवं हर व्यक्ति की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सरकार ध्यान दे रही है। चक्रवाती तूफान से निपटने के लिए सरकार पूरी तरह से तैयार है। खासकर प्रभावित इलाकों में पीने के पानी, बिजली सप्लाई स्वाभाविक रखने पर बल दिया जा रहा है। सरकार की तरफ से युद्ध कालीन स्तर पर 100000 सूखा खाद्य के पैकेट तैयार कर लिये गये हैं, जिसे आकाश मार्ग से दिए जाने की व्यवस्था की गई है।

एनडीआरएफ की टीम तैनात

पुरी, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, खुर्दा, बालेश्वर, भद्रक, जाजपुर आदि जिलों में सुरक्षा व्यवस्था को बढ़ा दिया गया है। इन जिलों में 28 एनडीआरएफ टीम को भेज दिया गया है। इसके साथ ही 20 दमकल विभाग की टीम तैनात की गई है। 3 तारीख की शाम को करीबन 5:30 बजे पूरी में चक्रवाती तूफान फानी लैंडफॉल करेगा। ऐसे में अस्तरंग तथा काकटपुर समुद्र के किनारे रहने वाले गांव तथा चिलिका झील के पास रहने वाले गांव के लोगों को स्थानांतरित किया जा रहा है। पर्यटकों को 2 तारीख शाम तक पूरी शहर छोड़ देने के लिए सलाह दी गई है। लोगों से 2 तारीख शाम से 3 तारीख रात तक घर से बाहर ना निकलने की अपील की गई है। चक्रवाती तूफान फेनी से निपटने के लिए नौसेना एवं तटरक्षी वाहिनी को अलर्ट पर रखा गया है। बनारस एवं पटना से और 5 एनडीआरएफ टीम मंगाई गई है। पहले ही विभिन्न प्रभावित जिलों में 28 एनडीआरएफ की टीम में तैनात कर दी जा चुकी है।

Posted By: Babita

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप