संबलपुर, जेएनएन। विगत 14 जुलाई की रात मुंबई-कोलकाता राजमार्ग पर बड़रमा घाटी में श्यामसुंदर सिंह हत्याकांड के मुख्य आरोपित जयराम सिंह को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। घटना के बाद से आरोपित फरार था। पुलिस इस मामले में जयराम के दो साथी जयदेव सिंहl और कुख्यात अपराधी राजा को जुलाई में ही गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है।

जमनकिरा पुलिस के अनुसार, कुतब गांव निवासी मैकेनिक श्यामसुंदर और जयराम सिंह के बीच जमीन को

लेकर पुरानी दुश्मनी थी। इस दुश्मनी को खत्म करने की खातिर जयराम ने अपने साथियों के साथ मिलकर श्यामसुंदर की हत्या की साजिश रची। इसी के तहत 14 जुलाई की देर शाम श्यामसुंदर को बाइक मरम्मत के बहाने घर से बुलाकर बड़रमा घाटी ले जाया गया। वहां कुछ लोग मौजूद थे। श्यामसुंदर जब बाइक की मरम्मत कर वापस घर जाने के लिए निकला तभी उसे पकड़कर निर्मम पिटाई की गई। उसके मरने के बाद शव को एक हाइवा गाडी से कुचलकर दुर्घटना का रूप देने की कोशिश की गयी।

हाइवा जयराम का बताया गया है। मृतक श्यामसुंदर की पत्नी सुचिता देवी को पति की मौत का पता चलने पर उसने जमनकिरा थाने में इसे साजिश के तहत हत्या का मामला बताते हुए शिकायत दर्ज करायी थी। पुलिस ने मामले की जांच करने के साथ इस साजिश में शामिल जयदेव सिंह और राजा को गिरफ्तार किया था। उनसे पूछताछ के बाद पुलिस मुख्य आरोपित जयराम सिंह, हरेश सिंह और अन्य एक की तलाश कर रही थी। सोमवार को मुख्य आरोपित जयराम सिंह को गिरफ्तार किया गया। पुलिस को जांच में पता चला है कि 14 जुलाई को अपराह्न हत्यारों ने गौड़पाली के निकट शराब पीकर श्यामसुंदर की हत्या की योजना बनायीं थी। इसके बाद बाइक रिपेयरिंग के बहाने बड़रमा घाटी में बुलाकर वारदात को अंजाम दिया था।

सफाई के बहाने डेढ़ लाख के गहने साफ, जानें कैसे बनाया ठगों ने बेवकूफ

 आठ साल पहले हुए इस हत्याकांड की अभी तक नहीं सुलझी गुत्थी, पुलिस फिर तत्पर

 

Posted By: Babita kashyap

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप