जागरण संवाददाता, भुवनेश्वर : पेट्रोल-डीजल दर वृद्धि के खिलाफ कांग्रेस की तरफ से आहुत भारत बंद का प्रदेश की राजधानी भुवनेश्वर, सांस्कृतिक व व्यापारिक नगरी कटक के साथ पूरे राज्य में व्यापक असर देखने को मिला। संभवत: यह पहली बार है जब कांग्रेस के आहुत बंद के दौरान किसी प्रकार की तोड़ फोड़ की घटना सामने नहीं आई। बंद पूरी तरह से शांतिपूर्ण रहा। इस मौके पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष निरंजन पटनायक ने कहा है कि जिस प्रकार से आज पेट्रोल-एवं डीजल के दर बढ़ रहे हैं उससे लोगों में आक्रोश है और इसका परिणाम आज पूरे राज्य में देखने को मिला है। लोगों ने स्वत: ही दुकान बाजार और वाहन बंद कर दिए। उधर, कांग्रेस के भारत बंद को ध्यान में रखते हुए प्रदेश सरकार ने स्कूल-कॉलेजों में पहले ही छुट्टी घोषित कर दी थी।

सुबह 6 बजे से ही कांग्रेस के नेता एवं कार्यकर्ता सड़क पर आ गए और पिके¨टग कर दुकान बाजार बंद कराने के साथ राष्ट्रीय राजमार्ग से लेकर तमाम रास्तों को बंद कर दिया। सुबह-सुबह ही बंद पालन शुरू हो जाने का आलम यह रहा कि कोलकाता से विशाखापटट्नम की तरफ जाने वाले ट्रक एवं टाटा नगर तथा कोलकाता से आने वाली बसें भी जहां तहां फंसी नजर आई। ट्रक चालकों तो सड़क पर ही डेरा डाल दिया और ट्रक के नीचे बकायदा बिस्तर लगाकर आराम फरमाते एवं भोजन बनाते देखे गए। कांग्रेस के इस बंद को ऑटो, बस मालिक संघ का भी पूरा समर्थन मिला और एक भी यात्रीवाही गाड़ियां सड़क पर नहीं दिखी। ट्रेनों को भुवनेश्वर, कटक रेलवे स्टेशन के साथ विभिन्न स्टेशनों पर रोक दिया गया।

विधानसभा के सामने खुद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अपनी टीम के साथ खड़े हो गए, जिससे किसी भी मंत्री, विधायक या पत्रकार के वाहनों को विधानसभा के अंदर नहीं जाने दिया गया। उन्हें विधानसभा के मुख्य गेट पर पुष्प गुच्छ देकर कांग्रेस के की तरफ से आम लोगों के लिए किए गए इस बंद का समर्थन करने का अनुरोध किया गया। मंत्री एवं विधायक या तो पैदल चलकर विधानसभा पहुंचे या फिर मोटरसाइकिल से विधानसभा पहुंचे। बंद के चलते खुद मुख्यमंत्री नवीन पटनायक तीन मिनट विलंब से विधानसभा पहुंचे।

विधानसभा के सामने भाजपा एवं बीजद विरोधी नारे भी गूंजते रहे। खासकर तब जब भाजपा विधायक दल के नेता कनक व‌र्द्धन ¨सहदेव विधानसभा पहुंचे तो कांग्रेसियों ने भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। हालांकि इस बीच उन्हें पुष्प भी कांग्रेस नेताओं ने दिया। इस बीच जब मंत्री प्रताप जेना पहुंचे तो उन्हें भी विरोध का सामना करना पड़ा। लेकिन मंत्री जेना ने कहा कि तेल दर वृद्धि का बीजू जनता दल भी विरोध कर रहा है, हम भी विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, लेकिन कांग्रेस का तरीका अलग है और हमारा तरीका अलग है।

Posted By: Jagran