जागरण संवाददाता, भुवनेश्वर : कमिश्नरेट पुलिस के विभिन्न थानों में तैनात भ्रष्ट अधिकारियों की पहचान कर उन्हें ठीक किया जाएगा। पुलिस कमिश्नर सत्यजीत महांती ने जटनी थाना के पुलिस अधिकारी एवं कर्मचारी के खिलाफ घूस लेने व गिरफ्तारी की बात सामने आने के बाद यह जानकारी देते हुए कहा कि उक्त पुलिस अधिकारी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

उन्होंने कहा है कि अब यदि किसी पुलिस अधिकारी के खिलाफ अपराधियों को संरक्षण देने या भ्रष्टाचार का आरोप सामने आता है तो उसके खिलाफ तुरंत कार्रवाई की जाएगी। किसी भी परिस्थिति में इस तरह के अधिकारियों को नहीं छोड़ा जाएगा। झूठे मामले में लोगों को फंसाने या परेशान करने के लिए जो पुलिस अधिकारी पैसा लेते हैं, उन्हें अब पता चल जाएगा की किस प्रकार से कार्रवाई की जाती है। किसी भी शिकायतकर्ता को यदि इस तरह की परिस्थिति का सामना करना पड़ता है तो फिर वह सीधे मेरे पास शिकायत कर सकता है। यहां उल्लेखनीय है कि जटनी के लोग थाना अधिकारी के व्यवहार से तंग आ गए थे। यहां तक कि यदि महिलाएं थाना में शिकायत लेकर जाती थी तो उन्हें न्याय दिलाने की बजाय थाना से लौटा देते थे। विजिलेंस में शिकायत करने वाले सुनील मंगराज ने कहा है कि इस तरह का थाना इंचार्ज (आइआइसी) हमने कभी नहीं देखा था, हर बात पर उसे पैसा चाहिए।

गौरतलब है कि 110 दफा में फंसाने की धमकी देकर थाना अधिकारी ने सुनील को परेशान करने के साथ 50 हजार रुपये रिश्वत की मांग की थी। थाना अधिकारी के व्यवहार से तंग आकर सुनील ने विजिलेंस विभाग में इसकी शिकायत की थी। इसके बाद विजिलेंस जाल बिछाया और थाना अधिकारी को रंगेहाथ दबोच लिया। गिरफ्तारी के बाद पुलिस जब संजीव को कोर्ट में पेश करने के लिए ले जा रही थी, तब लोगों का गुस्सा देखने लायक था। कोर्ट परिसर में लोगों ने उसके साथ मारपीट करने का प्रयास किया हालांकि पुलिस ने उसे अपने सुरक्षा घेरे में लेकर कोर्ट पहुंची। इस घटना के बाद पुलिस कमिश्नर उपरोक्त आदेश दिया है।

Posted By: Jagran