जागरण संवाददाता, राउरकेला। जिले की वरिष्ठ पुलिस टीम शहीद पुलिस कर्मियों के परिवारों से मुलाकात करेगी। उनके घर जाकर परिवार की स्थिति की जांच करेंगे। परिवार का मनोबल बढ़ाने के साथ पुलिस उनके परिवार के साथ है यह उन्हें बताएगी। सुंदरगढ़ पुलिस जिले में यह अभिनव अभियान शुरु किया गया है। इसकी शुरुआत एडीजी ललित दास ने की है। 

 पश्चिमांचल के डीआइजी कविता जलान तथा राउरकेला एसपी के शिवा सुब्रमणि के साथ वे बंडामुंडा स्थित कांदरी लोहार के घर पहुंचे। उनके परिवार की स्थिति से रूबरू हुए। कहा पुलिस उनके परिवार के साथ है। कांदरी लोहार एक नक्सली कैडर थी। लेकिन बाद में उसने संगठन को छोड़कर मुख्यधारा में लौट आयी थी। पुलिस की ओर से उसे होमगार्ड में नियुक्ति दी गई थी। लेकिन बाद में उसकी नक्सलियों ने हत्या कर दी। 

 इसी एडीजी ललित दास सुंदरगढ़ एसपी सागरिका नाथ, एएसपी राबिनारायण वारिक, सदर एसडीपीओ मधूसिक्ता मिश्रा के साथ मिलकर शहीद पुलिस कर्मी लक्ष्मण किसान के परिवारों से मुलाकात की और उनके धैर्य की सम्मान देने के साथ तथा उनके स्थिति से रूबरू हुए। शहीद किसान राउरकेला के नक्सल मुकाबला समूह में शामिल था और 7 दिसंबर 2010 को शहीद हो गया। झारखंड के जंगल में एक नक्सली आतंकवादी ने उन्हें गोली मार दी थी। एडीजी ने कहा कि देश और पुलिस हमेशा देश के लिए उनके बलिदान पर गर्व करेगी। 

जिला कार्यालय शहीद का फोटो तथा गांव के स्कूल (जहां से उसने पढ़ई की थी) में उनकी प्रतिमा स्थापित किए जाने की डीजीपी ने आश्वासन दिया। जिला पुलिस की टीम आने वाले दिनों में सभी शहीदों के परिवारों से मुलाकात करेगी।

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस